रीवा(मध्‍यप्रदेश)। रूद्राक्ष के लिए भले ही मध्‍यप्रदेश के रीवा में आदर्श जलवायु न हो, लेकिन यहां वन अनुसंधान वृत्त के वनपस्पति वैज्ञानिकों ने एक बार फिर दुर्लभ परीक्षण कर सबको चौंका दिया है। जी हां ज्योतिष शास्त्र व ग्रहों की महादशा के बीच में ख्याति प्राप्त एक मुखी रूद्राक्ष की पैदावार बेहद कम होती है।

लेकिन यहां अर्जुन यानी कहुए की कलम पर रूद्राक्ष की बेल का क्रास पौधा तैयार किया जा रहा है। वनपस्पति वैज्ञानिकों का दावा है कि जब यह पौधा तैयार होगा तो इसमें एक मुखी रूद्राक्ष ही पैदा होंगे।

बता दें कि सार्वधिक रूद्राक्ष के वृक्ष नेपाल में हैं। जहां दो मुखी, तीन मुखी, पंच मुखी, सात मुखी रूद्राक्ष बहुतायत में पाए जाते हैं। वहीं बाजार व स्वर्णकारों की दुकानों में एक मुखी रूद्राक्ष की कीमत 5100 रुपए से लेकर 51000 रुपए तक होती है। विपरीत जलवायु में एक मुखी रूद्राक्ष पैदा करने का दावा चर्चा का विषय बना हुआ है।

अर्जुन की जड़ रूद्राक्ष का पेड़

अनुसंधान वृत्त रीवा में एक अर्जुन नामक वृक्ष के कलम पर रूद्राक्ष के पेड़ों को क्रास किया गया है। जो कि विपरीत जलवायु में भी अपनी समय सीमा में न केवल बढ़ेगी बल्कि फूले और फलेगी भी। वन परिक्षेत्र अधिकारी केएस डाबर ने बताया कि अर्जुन के पेड़ पर रूद्राक्ष का रोपण क्षेत्र में पहली बार इसलिए किया गया है कि जिससे इस रूद्राक्ष के पेड़ पर जलवायु का असर न पड़े। अब तक यह प्रयोग सफल रहा है। जिससे तकरीबन 500 पौधे तैयार किए जा रहे हैं।

कटहल को मिलेगा बढ़ावा

इसी तरह गूलर या ऊमर के पेड़ पर कटहल के पौधे का रोपण किया गया है। जिससे तीन साल में न केवल कटहल का पौधा पेड़ की आकृति ले लेगा बल्कि उसमें फल लगने शुरू हो जाएंगे। साथ ही कटहल के उत्पादन पर भी इसका अच्छा असर पड़ेगा।

ज्योतिष में विशेष महत्व

रूद्राक्ष का ज्योतिष में व ग्रह नक्षत्रों में विशेष महत्व माना गया है। एक मुखी से लेकर 11 मुखी तक के रूद्राक्ष होते हैं। हर मुख संख्या का एक अलग कार्य व एक अलग असर है। जो कि ज्योतिष शास्त्र में वर्णित है।

विपरीत जलवायु में अर्जुन के पेड़ पर रूद्राक्ष का रोपण एक अलग कार्य है। अभी तक यह प्रयोग सफल रहा है। 500 क्रास कलम तैयार की गई है। सब ठीक रहा तो रीवा एक ऐसे रूद्राक्ष के पेड़ को देने जा रहा है जो एक मुखी रूद्राक्ष का फल देगा। -केएस डाबर, वन परिक्षेत्र अधिकारी, वन अनुसंधान वृत्त रीवा

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना