हरिद्वार Haridwar Kumbh 2021 । सनातन धर्म में कुंभ मेले का विशेष महत्व है और पौराणिक ग्रंथों में भी कुंभ मेले को लेकर कई जगहों पर उल्लेख किया गया है। कुंभ मेला दो शब्द कुंभ और मेला निर्मित है। पौराणिक धर्मग्रंथों में बताया गया है कि कुंभ मेले की कहानी समुद्र मंथन से जुड़ी हुई है। साथ ही यह भी मान्यता है कि समुद्र मंथन के दौरान अमृत कलश से 4 बूंदें 4 स्थानों पर गिर गई थीं। यह स्थान प्रयागराज, हरिद्वार, उज्जैन, और नासिक हैं। इन स्थानों पर ही कुंभ मेला आयोजित किया जाता है।

कुंभ मेले की पहली कहानी

हिंदू धर्मग्रंथों के मुताबिक कुंभ मेले से जुड़ी 3 पौराणिक कथाएं हैं। एक कथा के अनुसार ऋषि दुर्वासा ने जब इंद्र को विशेष शक्तियों के साथ एक पवित्र ग्रंथ प्रस्तुत किया तो भक्तों के राजा इंद्र ने इसे इरावत हाथी के सिर पर रखा, जिसने फर्श पर फेंक दिया और अपने पैरों से तोड़ दिया। तब ऋषि दुर्वासा ने क्रोधित होकर इंद्र को श्राप दिया, जिसके बाद पृथ्वी पर सूखा और आपदा आ गई, तब समुद्र मंथन किया गय, जिसके बाद देवी लक्ष्मी किसानों के लिए खुशियां और राहत के साथ बारिश भी लाई, लेकिन जब अमर अमृत का घड़ा जिसे नागलोक में छिपाया गया था, गरुण द्वारा लाया गया था तो इसे चार स्थानों पर रखा गया था, जहां बाद में कुंभ मेला आयोजित होने लगा।

दूसरी कहानी

कुंभ मेले को लेकर दूसरी कहानी ये है कि प्रजापति कश्यप की दो पत्नियों कद्रू और विनीता थीं। उनके बीच इस बात पर कलह था कि सूर्य के घोड़े सफेद या काले हैं। विवाद इतना बढ़ा कि दोनों में यह तय किया गया तो जो गलत साबित होगा वह एक नौकरानी के रूप में काम करेगी। कद्रू का पुत्र नागराज वासुकिअंद विनीता का पुत्र वंतैया गरुण था। कद्रू, नागों की मदद से प्रिया के घोड़ों से घिर गया था। वनिता हार गई। जब उसने अपने बेटे को देखा एक नौकर के रूप में काम करते हुए, उसने उसे मुक्त करने का फैसला किया। तब करदु ने यह कहते हुए एक शर्त लगाई कि अगर गरुण नागलोक से अमरनाथ का बर्तन पाने में सफल हो गए, तो उसे मुक्त कर दिया जाएगा। वरुण ने इसे सफलतापूर्वक लाया और गंधमादन पर्वत की ओर उड़ान भरी। वासुकी ने इसका उल्लेख किया था। इंद्र भगवान ने 4 बार गरुण पर हमला किय और अमरेंद्र पृथ्वी पर चार स्थानों पर फैल गया और वहीं पर अब कुंभ मेला आयोजित किया जाता है।

तीसरी कथा सबसे ज्यादा प्रचलित

वहीं एक अन्य धार्मिक कथा के अनुसार विष्णु द्वारा ले जाए जा रहे अमृत कलश से अमृत की कुछ बूंदे धरती पर गिरी थी। समुद्र मंथन के समय जब देवता और राक्षस मंथन से निकले अमृत कलश के लिए एक-दूसरे से लड़ रहे थे तब भगवान विष्णु अमृत लेकर भाग गए। रास्ते में असुरों में विवाद पर कलश से अमृत की बूंदे हरिद्वार, नासिक, उज्जैन और प्रयाग में गिरीं। बाद में इन्हीं स्थानों पर कुंभ मेला का आयोजन किया जाता है।

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close