हरिद्वार। पद्मभूषण महामंडलेश्वर स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि महाराज का बुधवार को अंतिम संस्कार कर दिया गया। उन्हें बुधवार शाम वैदिक मंत्रोच्चार के बीच राजकीय सम्मान और सनातनी परंपराओं के साथ उनके निवास राघव कुटीर परिसर में ध्यानावस्था में भू-समाधि दे दी गई। स्वामी सत्यमित्रानंद 87 साल की उम्र में मंगलवार सुबह ब्रह्मामलीन हो गए थे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रशासन के माध्यम से उन्हें श्रद्धांजलि दी।

जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि महाराज और भारत माता मंदिर ट्रस्ट के प्रबंध न्यासी आइडी शर्मा शास्त्री ने उनकी ओर से श्रद्धासुमन अर्पित किए। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनके अवसान को राष्ट्र, धर्म व समाज की अपूरणीय क्षति बताया। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत व योग गुरु बाबा रामदेव ने भी राघव कुटीर पहुंचकर श्रद्धांजलि दी।