Astro News: ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक ग्रहों की स्थिति से व्यक्ति का भाग्य चमकता है या खराब होता है। ऐसे में ग्रहों का गोचर बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है, क्योंकि इसी से चलता है कि अब आपका समय कैसा रहनेवाला है। चूंकि प्रत्येक ग्रह की गोचर अवधि अलग-अलग होती है, इसलिए ग्रहों की गति के मुताबिक शुभ और अशुभ योग बनते हैं। जब कुंडली में शुभ योग बनते हैं, तो इसे राजयोग कहते हैं। इस साल 24 सितंबर को ग्रहों की स्थिति अद्भुत रहने वाली है। 59 सालों के बाद एक ही समय में 5 शक्तिशाली राजयोग बनने जा रहे हैं।

क्या होता है राजयोग?

ज्योतिष शास्त्र में राजयोग का बहुत महत्त्व है, क्योंकि राजयोग किसी भी जातक को रंक से राजा बनाने की क्षमता रखता है। कुंडली में मौजूद राजयोगों के प्रभाव से ही व्यक्ति जीवन में तरक्की करता हुआ समृद्धि के चरम पर पहुँच जाता है। ग्रहों के स्वभाव और उनकी स्थिति के अनुसार कुंडली में राजयोग का निर्माण होता है। शनिवार, 24 सितंबर यानी शनिवार को एक ऐसे ही विशेष योगों का निर्माण हो रहा है। 24 सितंबर को ग्रहों की स्थिति की वजह से कुल पांच राजयोग बन रहे हैं, जिसमें दो प्रकार के नीचभंग राजयोग, बुधादित्य राजयोग, भद्र राजयोग और हंस पञ्च राजयोग शामिल हैं। इस दिन शनि, बुध और गुरु वक्री होंगे। सूर्य और बुध के अलावा बुधादित्य योग और शुक्र के गोचर से नीचभंग राजयोग बनेगा।

इन राशि के जातकों की खुलेगी किस्मत

वृषभ राशि

वृषभ राशि के स्वामी शुक्र 18 अक्टूबर तक नीच राशि में विराजमान रहेंगे। इससे नीच भंग राजयोग का निर्माण होगा। इस योग की वजह से जातकों को धन लाभ के प्रबल योग बन रहे हैं। इस राशि के लिए गुरु भी लाभ स्थान में बैठे हैं, इसलिए व्यापारियों के लिए अच्छा समय है। आपको भाग्य स्थान में शनि मौजूद हैं। ऐसे में शनि के जुड़े कारोबार करनेवालों, जैसे - लोहा, कोयला, पेट्रोल, खनन आदि से जुड़े कारोबारियों को विशेष धन लाभ होगा। इसके साथ ही नवपंचम और समसप्तक योग चौतरफा लाभ दिलाएंगे।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के जातकों की कुंडली में हंस पंच महापुरुष योग का निर्माण हो रहा है। इस योग से आपके करियर और व्यापार में धनलाभ के योग बन रहे हैं। जीवनसाथी के माध्यम से भी आपको धन लाभ होगा और आपकी आर्थिक स्थिति मज़बूत होगी। शिक्षा और राजनैतिक पदों से जुड़े लोगों का पद-प्रतिष्ठा बढ़ेगी। केंद्र में 3 शुभ ग्रहों का होना करियर और व्यक्तिगत जीवन में बेहतरी लाएंगे।

कन्या राशि

आपकी राशि के स्वामी बुध अभी उच्च अवस्था में अपनी ही राशि में विराजमान हैं। बुध व्यापार और वाणिज्य का कारक माना जाता है। उनकी उच्च अवस्था से कन्या राशि के जातकों को भारी धनलाभ होगा। वहीं भाग्य और धन के स्वामी शुक्र 24 सितंबर से नीच भंग योग का निर्माण करेंगे। इस दौरान आपको भाग्य का पूरा साथ मिलेगा और सभी बिगड़े काम बन जाएंगे। नौकरी में परिवर्तन और प्रमोशन के भी योग बन रहे हैं।

धनु राशि

धनु राशि के जातकों की कुंडली में हंस पंच महापुरुष, नीच भंग और भद्र योग का निर्माण हो रहा है। कारोबारियों के लिए यह समय सबसे उत्तम रहेगा। आप कोई कोई नई डील फाइनल कर सकते हैं, जिससे आपको लाभ होगा।

व्यापार से जुड़ी यात्राओं के प्रबल योग बन रहे हैं, जिसमें आपको फायदा होगा। नौकरी में परिवर्तन और प्रमोशन के भी योग हैं।

मीन राशि

मीन राशि के जातकों की कुंडली में शनि भाग्य स्थान पर बैठे हैं। इसलिए यह समय आपके लिए किसी भी कार्य को शुरु करने के लिए सबसे उत्तम रहेगा। नीचभंग और भद्र राजयोग के कारण आपको भाग्य का पूरा साथ मिलेगा और बिगड़े काम भी बन जाएंगे। करियर और व्यापार में धनलाभ होगा। दांपत्य जीवन और प्रेम संबंधों में भी सुधार के संकेत हैं।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close