Astro Tips: जिस व्यक्ति के घर में आए दिन झगड़े होते रहते हैं और कलह बनी रहती है उसकी कुंडली के चतुर्थ भाव का दोष पाया जाता है। साथ ही साथ लग्न में भी इन हालात के ऊपर अधिकार पाने में असक्षम होता है। कुछ जातकों के निर्बल चंद्रमा के कारण भी घर में कलह का वातावरण बना रहता है। ज्योतिष विधा में कुछ ऐसे उपाय बताए गए हैं। जिन्हें करने से इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है। साथ ही घर में शांति का वास होता है। यदि आप भी अपने घर में होने वाले क्लेश से परेशान हैं तो इन उपायों को करने से घर में शांति बनी रहेगी।

- रात को सोने से पहले किसी पीतल के बर्तन में कपूर लेकर उसे गाय के शुद्ध घी में डुबोकर जला दें। इस उपाय से घर के क्लेश का नाश होता है। साथ ही घर में शांति बनी रहती है।

- यदि पति पत्नी में क्लेश बना रहता है तो पत्नी को रात को सोते समय बिना टोके कपूर पति के तकिये के नीचे रख देना चाहिए और सुबह बिना टोके उसे जला देना चाहिए। इसके पश्चात राख को बहते हुए पानी में प्रवाहित कर दें। इस उपाय को करने से आपस में शांति बनी रहेगी और प्रेम बढ़ेगा।

- घर की कलह को दूर करने के लिए गृह स्वामी को पीपल के वृक्ष की सेवा करनी चाहिए। साथ ही पीपल के पौधे को रोपना और एक बड़े पेड़ में तब्दील होने तक उसकी निरंतर देखभाल करना चाहिए।

- सप्ताह में किसी एक दिन कपूर जलाकर उसका धुआं घर में देने से गृह क्लेश नहीं होता वहीं घर में शांति का वास रहता है।

- रविवार के दिन उपले पर कपूर और गुड़ रखकर उस पर थोड़ा घी डालकर जलाएं। इस उपाय से आपके घर की नकारात्मक ऊर्जाएं दूर होंगी।

- मंगलवार के दिन हनुमान जी के समक्ष पंचमुखी दीप प्रज्जवलित करें और अष्टगंध जलाकर उसकी सुगंध पूरे घर में फैलाएं। घर में सकारात्मक ऊर्जा का निवास होगा।

- घर में सभी छोटे-बड़ों की समान रूप से इज्जत करनी चाहिए साथ ही उनके द्वारा कही बातों की अनदेखी नहीं करनी चाहिए।

Vastu Shastra: खाना खाने के बाद भूलकर भी न करें ये काम, वरना मां लक्ष्मी हो जाएंगी नाराज

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Shrma

  • Font Size
  • Close