Bargad Ke Upay: हिंदू धर्म में बरगद का पेड़ काफी पूजनीय माना जाता है। बरगद के पेड़ की पूजा का विशेष महत्व होता है। शास्त्रों में कहा गया है कि बरगद के पेड़ में त्रिदेव का वास होता है। बरगद के पेड़ की जड़ में ब्रह्मा, तने में भगवान विष्णु और टहनियों में भगवान शिव का वास होता है। बरगद के पेड़ की पूजा करने से तीनों देवताओं की कृपा प्राप्त होती है। पूजा के साथ-साथ यदि बरगद से जुड़े कुछ खास उपाय भी कर लिए जाएं तो व्यक्ति को सुख-समृद्धि और धन की प्राप्ति होती है। साथ ही हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त होती है। आइए जानते हैं कि बरगद से जुड़े वे खास उपाय कौन से हैं।

व्यापार में मुनाफा

शास्त्रों के अनुसार अगर किसी व्यक्ति को अपने व्यापार में मुनाफा नहीं हो रहा है तो शनिवार के दिन बरगद के तने पर हल्दी और केसर अर्पित करें। इससे आपको हर कार्य में सफलता हासिल होगी।

समस्याओं से मिलेगी मुक्ति

अगर किसी व्यक्ति को लगातार समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है तो हर शाम बरगद के पेड़ के नीचे शुद्ध घी का दीपक जलाकर भगवान विष्णु का ध्यान करें। इससे आपके जीवन में चल रही समस्याओं के मुक्ति मिलेगी।

आर्थिक तंगी

अगर किसी व्यक्ति को आर्थिक तंगी ने घेर रखा है तो धन संबंधी उपाय करने से आपकी समस्या हल हो जाएगी। शुक्रवार के दिन बरगद के पेड़ का एक साबुत पत्ता लें और उस पर गीली हल्दी से स्वास्तिक बनाएं। इसके बाद इस पत्ते को अपने घर के मंदिर या तिजोरी में रख दें। इससे धन का आगमन होगा।

मनोकामना होगी पूरी

अगर आप अपनी कोई मनोकामना पूरी करना चाहते हैं तो मन में अपनी मनोकामना कहते हुए बरगद के पेड़ की पूजा करें और उसके चारों ओर सूती धागा लपेटें। माना जाता है कि ऐसा करने से आपकी हर मनोकामना पूरी होती है।

नौकरी में मिलेगी सफलता

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर किसी व्यक्ति को लगातार नौकरी में असफलता का सामना करना पड़ रहा है तो बरगद के पेड़ के नीचे घी का दीपक जलाएं। इस उपाय को करने से व्यक्ति के सारे काम बनने लगते हैं।

Dream Meaning: सपने में खुद को आम खाते हुए देखने का आखिर क्या मतलब होता है, जानिए

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Sharma

rashifal
rashifal