Budhwar Ke Upay: बुधवार का दिन भगवान श्रीगणेश को समर्पित है। लाल किताब के अनुसार मां दुर्गा की आराधना के लिए भी यह दिन श्रेष्ठ माना गया है। बुध ग्रह की वजह से इस दिन का नाम बुधवार रखा गया था। ऐसे जातक जिनकी कुंडली में बुध ग्रह की स्थिति कमजोर है उन्हें बुधवार के दिन कुछ ज्योतिषीय उपाय जरूर करने चाहिए। बुध की स्थिति कुंडली में सही न होने पर व्यक्ति को मानसिक, शारीरिक और आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इन सबका असर व्यक्ति के करियर और व्यापार दोनों पर पड़ता है। ज्योतिष शास्त्र में बुधवार के दिन करियर व कारोबार में तरक्की के लिए कुछ उपाय बताए गए हैं। इन उपायों के करने से भगवान गणेश के आशीर्वाद से सभी विघ्न दूर होते हैं और कुंडली में बुध की स्थिति मजबूत होती है। आइए जानते हैं करियर व कारोबार में फायदे के लिए किन जाने वाले बुधवार के इन उपायों के बारे में...

बुधवार के उपाय

1.बुधवार के दिन मां दुर्गा का ध्यान करते हुए दुर्गा सप्तशती का पाठ करना चाहिए।

2.बुधवार के दिन हरी मूंग की दाल का दान करना चाहिए।

3.परिवार के साथ हरी मूंग की दाल का सेवन करना भी लाभकारी माना जाता है।

4.बुधवार के दिन शिवलिंग पर भी हरी मूंग अर्पित करने से भी बुध मजबूत होता है।

5.आर्थिक समस्याओं से कर्ज से परेशान हैं तो हर बुधवार को ऋणहर्ता गणेश स्तोत्र का पाठ करना चाहिए।

6.बुधवार 21 दूर्वा की एक गांठ बनाकर गणेशजी के मस्तक पर चढ़ाएं। ऐसा करने से करियर में सफलता मिलती है।

7.बुधवार के दिन गाय को हरी घास या पालक साग अवश्य खिलाना चाहिए। ऐसा करने से ग्रह दोष दूर होते हैं।

8.बुधवार के दिन बहन और भांजी को गिफ्ट देना चाहिए।

9.हरे रंग के वस्त्र धारण करने और दान करने से भी लाभ मिलता है।

बुध के इन मंत्रों का जप करें

-बीज मंत्र : ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः!

-ॐ बुं बुधाय नमः अथवा ॐ ऐं श्रीं श्रीं बुधाय नमः!

-ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं स: बुधाय नम:

-प्रियंगुकलिकाश्यामं रूपेणाप्रतिमं बुधम। सौम्यं सौम्य गुणोपेतं तं बुधं प्रणमाम्यहम।।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Kushagra Valuskar

  • Font Size
  • Close