Chaitra Navratri 2023: 22 मार्च से नवरात्रि का पावन पर्व शुरू होने वाला है। धार्मिक मान्यता के अनुसार नवरात्रि में माता की उपासना के लिए श्रेष्ठ समय होता है। नवरात्रि का अर्थ है - नया और रात्रि - अर्थात यज्ञ अनुष्ठान, नया अनुष्ठान। मां शक्ति के नौ रूपों की आराधना नौ अलग-अलग दिनों में की जाती है, जिसे नवरात्रि कहते हैं। जो जीवात्मा, भूताकाश, चित्ताकाश और चिदाकाश में सर्वव्यापी है, वही मां ब्रह्मशक्ति हैं। हर कोई चाहता है कि मां की कृपा से उनके घर में हमेशा सुख-समृद्धि बने रहे। इसके लिए तरह-तरह की पूजा-पाठ और विभिन्न उपाय करते हैं। इसके अलावा आप अलग-अलग देवियों के रूप के अनुरूप वस्त्र पहनकर भी पूजा के फल में वृद्धि कर सकते हैं। देवी की पूजा में गंदे और फटे हुए वस्त्र नहीं पहनना चाहिए।

मां शैलपुत्री

नवरात्रि का पहला दिन मां शैलपुत्री को समर्पित है। इस दिन अनंत शक्तियों वाली मां शैलपुत्री की पूजा करते समय उपासक को लाल,गुलाबी, नारंगी और रानी रंग के कपड़े पहनकर पूजा करने से माता की कृपा प्राप्त होती है।

मां ब्रह्मचारिणी

नवरात्रि का दूसरा दिन माता ब्रह्मचारिणी को समर्पित है। इस दिन माता की पूजा करते समय जातक को सफेद, क्रीम या पीला रंग के कपड़े पहनना चाहिए। इससे साधक की मेधा शक्ति विकसित होती है।

मां चंद्रघंटा

नवरात्रि के तीसरे दिन दस भुजाओं वाली मां शक्ति के तीसरे रूप चंद्रघंटा की पूजा की जाती है। इस दिन पीला, लाल, दूधिया या केसरिया रंग के कपड़े पहनकर देवी की पूजा करना चाहिए। इससे मां प्रसन्न होकर सुख-समृद्धि का आशीर्वाद देती हैं।

मां कूष्माण्डा

मां कूष्माण्डा देवी ने ब्रह्मांड की रचना की थी। देवी कूष्माण्डा प्रकृति की भी देवी हैं, इनकी पूजा करते समय क्रीम, पीला, हरा और भूरे रंग के वस्त्र पहनना चाहिए।

मां स्कंदमाता

नवरात्रि के पांचवे दिन मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है। इनकी पूजा करते समय सफेद, दूधिया, लाल या हरे रंग के वस्त्र पहनना चाहिए। इससे साधक की सभी इच्छाएं पूरी होती है।

मां कात्यायनी

देवी कात्यायनी को महिषासुर मर्दिनी भी कहा जाता है। नवरात्रि का छठवां दिन मां कात्यायनी को समर्पित होता है। इस दिन भक्तों को लाल, मेहरून, नारंगी, गुलाबी, गेरुआ और मूंगा रंग के कपड़े पहनकर माता की पूजा करनी चाहिए।

मां कालरात्रि

नवरात्रि के सातवें दिन आसुरिक शक्तियों का विनाश करने वाली मां कालरात्रि की पूजा की जाती है। इनकी पूजा में बैंगनी, स्लेटी, नीला और आसमानी रंग के वस्त्र धारण करने से मां प्रसन्न होकर आशीर्वाद देती हैं।

मां महागौरी

नवरात्रि का आठवां दिन मां महागौरी को समर्पित माना जाता है। ये धन, वैभव और सुख-शांति की अधिष्ठात्री देवी हैं। इनकी पूजा के दौरान भक्तों को केसरिया, संतरी या लाल, गुलाबी रंग के वस्त्र धारण करने चाहिए।

मां सिद्धिदात्री

नवरात्रि का नौवां और आखिरी दिन मां सिद्धिदात्री को समर्पित होता है। इनकी पूजा करते समय साधक को लाल, गुलाबी, क्रीम, नारंगी रंग के वस्त्र पहनने चाहिए। इससे पूजा के फल में वृद्धि होती है।

धन लाभ के लिए आज ही घर ले आएं ये एक चीज

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Sharma

rashifal
rashifal
 
google News
google News