Rahu Gochar 2020 : इस वर्ष की शुरुआत से 23 सितम्बर 2020 तक राहु का गोचर मिथुन राशि में रहेगा और 23 सितम्बर 2020 को प्रात: 08: 20 पर यह मिथुन से वृषभ राशि में संचार करेगा। राहु हमेशा वक्री अवस्था में ही संचार करता है। कलयुग में राहु का गोचर मानव जीवन पर बहुत अहम भूमिका निभाता है। सभी राशियों पर राहु के राशि परिवर्तन का विशेष प्रभाव और राहु ग्रह के ज्योतिषीय महत्व के बारे में राहु गोचर से जानते हैं। वैदिक ज्योतिष में राहु को छाया ग्रह कहा गया है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार राहु का कोई भौतिक अस्तित्व नहीं है फिर भी मानव जीवन में इसका सबसे अधिक और महत्वपूर्ण प्रभाव रहता है। राहु के लिए कहा गया है कि राहु अगर बिगड़ जाये तो नरक सी जिंदगी बना देता है और सुधर जाये तो ताज भी पहना देता है। राहु के लिए ही कहा गया है कि राहु जिसे मारे तो फिर उसे कौन तारे और राहु जिसे तारे फिर उसे कौन मारे। राहु अगर खराब फल दे तो मुक़द्दमों में अवश्य फँसवाता है और बिना बात की मानसिक परेशानियों में उलझा देता है। राहु का शुभ प्रभाव हो तो जातक को बहुत सारा धन और राजनीति में मान तथा सम्मान के साथ उच्च पद भी मिलता है। आइये जानें राहु की 2020 की यात्रा हमारी राशियों पर क्या प्रभाव डालती है।

1. राहु गोचर 2020 का मेष राशिफल

राहु गोचर 2020 में मेष राशि में राहु का गोचर राशि से तीसरे यानि पराक्रम भाव मेंं है। राहु का तीसरे भाव में गोचर बहुत शुभ माना जाता है। इस समय में आपका साहस और पराक्रम बना रहेगा और आप जो भी कार्य करेंगे वह अपने आधार पर करेंगे। आपको किसी का सहयोग मिले या न मिले, आप खुद ही अकेले आगे बढ़ सकते है। आपकी राशि का स्वामी मंगल वैसे ही अग्नि की भांति ऊपर उठना चाहता है। इस गोचर के सहयोग से भी आप अपने व्यवसाय में कुछ नया कर दिखाने में कामयाब होंगे। अगर आपकी खेल में रुचि है तो इस वक्त आप किसी बड़े पड़ाव पर जा कर खेल सकते है। वैवाहिक जीवन के लिए यह राहु कुछ भ्रम ला सकता है। बहुत ही सावधानी से अपने जीवन साथी के साथ रिश्ते को संभालें। आय और लाभ के लिए भी सितम्बर तक का समय बेहतर रहेगा। आप किसी नये कार्य में भी रुचि ले सकते हैं, जिसमें आपको धन लाभ होगा। सितम्बर के बाद राहु का गोचर आपकी राशि से दूसरे भाव में रहेगा, इस समय आपको अपने खर्चे और वाणी पर काबू रखना होगा।

उपाय - श्री हनुमान अष्टक का नित्य 9 बार पाठ करे

2. राहु गोचर 2020 का वृषभ राशिफल

आपकी राशि से राहु गोचर 2020 दूसरे भाव यानि धन भाव में रहेगा। इस समय में अपने धन का खर्च बहुत ही सावधानी से करें। कुछ ऐसे खर्चे भी हो जाएंगे जो बेवज़ह होंगे और आपको पता भी नहीं चलेगा कि कब आप इतना खर्च कर बैठे। अपनी वाणी का इस्तेमाल भी बहुत सोच समझकर करें, नहीं तो बिना सोचे समझे बोलने से आपके बहुत ही खास रिश्ते आपसे दूर होने लगेंगे। अपने कार्यस्थल में अपने अहम को हावी न होने दें नहीं तो नुकसान आपका ही होगा, जो आपके मानसिक तनाव का कारण बनेगा। नौकरी में भी किसी तरह का तनाव भरा माहौल बना रहेगा। आपको बहुत ही सावधानी से सितम्बर तक का समय निकालना होगा। सितम्बर के बाद राहु का गोचर आपकी ही राशि में होगा, इस गोचर के दौरान आप किसी तरह की ग़लतफ़हमी के शिकार हो सकते है और बिना बात का मानसिक तनाव भी बना रहेगा।

उपाय - श्री अष्ट लष्मी जी का नित्य पाठ करे

3. राहु गोचर 2020 का मिथुन राशिफल

आपकी राशि पर ही राहु गोचर 2020 में होने से साल की शुरुआत कुछ मानसिक तनाव और भ्रम के साथ हो सकती है। अधिक सोचने की वज़ह से भी महत्वपूर्ण निर्णय नहीं ले पाएंगे। व्यापार स्थल में लेन देन को लेकर सावधानी रखने की आवश्यकता है नहीं तो धोखा होने की सम्भावना बन रही है। इस गोचर के दौरान आर्थिक मामलों में भी सावधानी के साथ खुद पर क़ाबू रखेंं। छोटी- छोटी यात्राओं के साथ आपके परिवार में किसी मांगलिक कार्य में आप साल के मध्य में व्यस्त रहेंगे। पिता के साथ अनबन हो रही है तो सँभाल लें नहीं तो पैतृक सम्पत्ति में आपके भाई बहन इस बात का फायदा उठा सकते है। माता का सहयोग आपके जीवन में बना रहेगा। वैवाहिक जीवन में किसी ग़लतफहमी की वज़ह से आपसी तनाव बढ़ सकता है, जिसमें सितम्बर के बाद ही राहत मिलेगी। सितम्बर में राहु का गोचर आपकी मिथुन राशि से वृषभ राशि में होगा। बारहवें भाव का यह गोचर विदेश यात्रा के लिए शुभ रहेगा परंतु अत्यधिक ख़र्चों के लिए बेहतर नहीं रहेगा।

उपाय - श्री महाविष्णु स्तोत्रम जी का नित्य पाठ करे

4. राहु गोचर 2020 का कर्क राशिफल

कर्क राशि से बारहवें भाव में राहु गोचर 2020 में होने से ख़र्चों की वज़ह से मानसिक तनाव हो सकता है। यह राहु आपके विदेश जाने का सपना भी सच करेगा और वहां बसने के लिए भी आपकी कोशिश कामयाब रहेगी। इस वर्ष आपका रुका हुआ धन या किसी को दिया हुआ धन वापिस मिल सकता है। आप अपने परिवार के साथ धार्मिक स्थान पर भी जा सकते है, जिस वज़ह से आप अपने परिवार के साथ भी समय बिता पाएंगे। वैवाहिक जीवन में आपके साथी को कोई नयी उपलब्धि मिल सकती है, जिस वज़ह से घर में खुशी का माहौल बनेगा। संतान से किसी बात पर वाद-विवाद हो सकता है। सितम्बर में राहु का गोचर आपकी राशि से एकादश भाव में होगा। यह समय आर्थिक स्थिति के लिए बहुत बेहतर रहेगा। आपके धन से जुड़े सपने पूर्ण होंगे और समाज में नई पहचान बनेगी। व्यवसाय को लेकर नये प्रोजेक्ट मिलेंगे जिसमें आपने ईमानदारी से ही कार्य करना है।

उपाय - श्री कुबेर मंत्र जी का नित्य पाठ करे

5. राहु गोचर 2020 का सिंह राशिफल

राहु गोचर 2020 के अनुसार वर्ष की शुरुआत में आपकी राशि से एकादश भाव में राहु का गोचर रहेगा। यह समय बेहतर आर्थिक स्थिति और लाभ का बना हुआ है। इस समय आये हुए धन को सही जगह निवेश करें तभी यह धन आपके पास टिका रहेगा नहीं तो जिस तरह से धन आएगा उसी तरह से खर्च भी हो जाएगा। इस वर्ष आपके व्यवसाय की शुरुआत एक नये अवसर के साथ हो सकती है,म, जिसमें आपकी नई पहचान भी बन सकती है और विदेशी कम्पनी से नये प्रोजेक्ट मिलने से आय के साथ लाभ भी बना रहेगा। वैवाहिक सुख को लेकर कुछ तनाव सा बना रह सकता है क्योंकि काम की व्यस्तता के कारण भी आप घर परिवार में समय नहीं दे पाएंगे। अगस्त माह के आसपास आपके जीवन में एक नया साथी दोस्त के रुप में आएगा जिससे आपको प्रेम हो जाएगा। सितम्बर से यही राहु मिथुन राशि से वृषभ राशि यानि आपकी राशि से दशम भाव में गोचर करेगा। इस समय में आप कार्य को लेकर कुछ भ्रम की अवस्था में आ सकते हैं।

उपाय - श्री लक्ष्मी जी की आरती नित्य करे

6. राहु गोचर 2020 का कन्या राशिफल

कन्या राशि के लिए राहु गोचर 2020 में राशि से दशम भाव में चल रहा है। यह समय नये कार्य के लिए बेहतर नहीं है। कार्य-स्थल में भ्रम की स्थिति बनी रहेगी और कर्मचारियों के साथ भी मतभेद भी बना रहेगा। आर्थिक स्थिति को लेकर भी तंगी रहेगी। किसी कार्य में निवेश नहीं करें। कर्ज़ की स्थिति को लेकर भी राहत नहीं दिखाई दे रही है। कोई भी कदम जल्दबाज़ी में न उठाएें। वैवाहिक जीवन में आपके साथी का आपको पूरा सहयोग मिलेगा और आर्थिक रुप से भी वह आपकी मदद करने की कोशिश करेंगे। संतान की तरफ से कोई मानसिक परेशानी हो सकती है और आपस में आपके विचार न मिलने की वज़ह से भी तनाव बना रहेगा। सितम्बर से राहु का गोचर मिथुन राशि से वृषभ राशि में होगा इस समय में आपकी आध्यात्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी और धार्मिक यात्राओं का भी संयोग बनेगा। पिता के साथ किसी प्रकार के मतभेद से बचें और उनकी सेहत का भी ध्यान रखें।

उपाय - श्री शनि देव जी की आरती नित्य करे

7. राहु गोचर 2020 का तुला राशिफल

राहु गोचर 2020 के अनुसार तुला राशि में राहु का गोचर राशि से नवम भाव में चल रहा है। राहु का नवम यानि भाग्य भाव में गोचर होने से साल की शुरुआत में ऐसा लगेगा की सभी काम बन रहे है, पर किसी कारण से रुकावट आने से समय से काम नहीं बन पाएंगे। पिता के साथ ग़लतफहमी की वज़ह से मतभेद हो सकता है। आप किसी भी काम की शुरुआत तो बहुत ही जोश और उत्साह में आ कर करेंगे पर किसी भ्रम में फँस कर मानसिक परेशानी भी महसूस करेंगे। संतान पक्ष से भी किसी वज़ह से रिश्तों में खटास आ सकती है और आपस में विचार न मिलने की वज़ह से दूरी बनी रहेगी। व्यवसाय क्षेत्र में अत्यधिक आत्मविश्वास से बचें और निवेश करते समय किसी सीनियर की सलाह अवश्य ले लें। धार्मिक यात्रा में जाने का अवसर प्राप्त होगा परंतु किसी तरह का दिखावा करने से बचें। सितम्बर से राहु का गोचर मिथुन राशि से वृषभ राशि में होगा। राशि से अष्टम भाव में गोचर होने से अचानक किसी शोध में रुचि होगी विदेश जाने का अवसर प्राप्त होगा।

उपाय - श्री गणपति जी की आरती नित्य करे

8. राहु गोचर 2020 का वृश्चिक राशिफल

राहु गोचर 2020 वर्ष की शुरुआत में आपकी राशि से अष्टम भाव में रहेगा। अब तक आप जिस विषय में खोज कर रहे थे इस वर्ष आपको वहां से सफलता की प्राप्ति होगी और कुछ नया कर दिखाने के लिए प्रेरित होंगे। आप जिस से प्रेम करते है, उससे कोई बात न छुपाएें, कोई ऐसी बात होगी जो उनको बाहर से पता चलेगी जिस वज़ह से प्रेम में खटास आ सकती है। अपने माता पिता के साथ धार्मिक यात्रा में जाने का संयोग बनेगा। व्यवसाय में समय पहले से बेहतर रहेगा आपको नये प्रोजेक्ट में काम भी मिलेगा और कार्य पूरा होने पर प्रशंसा भी मिलेगी। बॉस की नज़रों में आपकी मेहनत उजागर होने से आपको प्रमोशन मिलेगा। सितम्बर माह से राहु का गोचर सप्तम भाव में होने से इस समय से आप अपने वैवाहिक जीवन को लेकर तनाव में रहेंगे, किसी प्रकार की ग़लतफ़हमी की वज़ह से आपसी दूरी हो सकती है।

उपाय - श्री महादेव जी की आरती नित्य करे

9. राहु गोचर 2020 का धनु राशिफल

राहु गोचर 2020 वर्ष की शुरुआत में राहु का गोचर आपकी राशि से सप्तम भाव में रहेगा। व्यापार में किसी तरह के लेन देन को ले कर सावधान रहें। अपने साझेदार पर भी आँख बंद कर विश्वास न करें। धन से जुड़े कार्य में सँभल कर रहें। अचानक अधिक ख़र्चों की वज़ह से मानसिक तनाव बढ़ सकता है। अपने मित्रों में अधिक समय खराब न करें। वैवाहिक जीवन में राहु की वज़ह से आपसी संबंधों में जीवन साथी के साथ भ्रम बन सकता है, कोई जरा सी बात भी हो तो पहले ही बातचीत से सुलझा लें, अधिक बात बढ़ने से परिवार में तनाव का माहौल बना रहेगा। आप जिस से प्रेम करते हैं उनको अपना समय दें। आपके कार्य की व्यवस्था के कारण आप उनको अपना नहीं दे पा रहे हैं । यही कारण आपसी प्रेम में खटास भर देगा। सितम्बर से राहु का गोचर धनु राशि से छठे भाव में वृषभ राशि में होगा। इस भाव में राहु बहुत शुभ फल देता है और शत्रुओं पर विजय देता है। कोर्ट कचहरी में कोई केस चल रहा था तो यह राहु आपको जीत दिलाएगा।

उपाय - श्री गुरु गायत्री मंत्र का 108 बार ध्यान / पाठ करे

10. राहु गोचर 2020 का मकर राशिफल

राहु गोचर 2020 वर्ष की शुरुआत में मकर राशि से राहु का गोचर छठे भाव में रहेगा। इस समय आपको कर्ज़ के लेन देन में राहत मिलेगी और यह आपको प्रतियोगिताओं में सफलता दिलाएगा। अब तक किसी वाद विवाद को लेकर परेशान थे तो वहां से भी ये राहु बाहर निकाल लाएगा। विदेश जाने का सपना भी इसी गोचर के दौरान सच हो सकता है। आप अपनी तैयारी पूरी रखें। वैवाहिक जीवन में ये राहु कुछ परेशानी ला सकता है। आपसी मतभेद की वज़ह से मानसिक तनाव बना रहेगा। आप जहां नौकरी करते है वहां साथ काम कर रहे सहयोगियों के साथ तनाव हो सकता है। किसी को अपना ज्यादा नज़दीकी न समझें और न ही उनसे कोई मन की बात करें। व्यवसाय में उतार-चढ़ाव बना रहेगा और आप उत्साह और जोश के साथ आगे बढ़ेंगे। सितम्बर माह में राहु का गोचर पंचम भाव में होने से सोच में भ्रम सा महसूस करेंगे और निर्णय लेने में खुद को कमज़ोर महसूस करेंगे। संतान के साथ किसी ग़लतफ़हमी की वज़ह से तनाव हो सकता है।

उपाय - श्री शनि गायत्री मंत्र का 108 बार ध्यान / पाठ करे

11. राहु गोचर 2020 का कुम्भ राशिफल

आपकी राशि कुम्भ से राहु गोचर 2020 पंचम भाव में हो रहा है। इस वज़ह से शिक्षा में विघ्न आ सकता है। इस समय में किसी भी विषय में बदलाव के बारे में न सोचे। संतान की सेहत का ध्यान रखें और उनकी शिक्षा का विशेष रुप से ध्यान रखें। इस गोचर के दौरान आपको नकारात्मक विचारों का सामना करना पड़ सकता है। इस वज़ह से मानसिक तनाव भी बना रहेगा। इस साल किसी मित्र से आपकी अनबन हो सकती है और धन को लेकर भी वाद- विवाद हो सकता है। वैवाहिक जीवन में किसी तीसरे की वज़ह से आपस में तनाव हो सकता है और शक की भावना आ सकती है। व्यवसाय में नई शुरुआत होने के साथ जो प्रोजेक्ट मिलेंगे उसको आप बहुत ही उत्साह से करेंगे और तरक्की भी मिलेगी। कार्य-क्षेत्र में आत्मविश्वास बना रहेगा। नौकरी में भी वेतन बढ़ने से आपकी आर्थिक स्थिति बेहतर हो जाएगी। सितम्बर ले बाद राहु का गोचर आपके चतुर्थ भाव में होगा जिससे पारिवारिक जीवन से थोड़ी असंतुष्टि हो सकती है और आपको अति व्यस्तता के चलते परिवार से दूर जाना पड़ सकता है। ऐसे में अपने परिवार को अपना पूरा समय दें जिससे आप के बीच में प्रेम बना रहे।

उपाय - श्री रूद्र मंत्र का 108 बार ध्यान / पाठ करे

12. राहु गोचर 2020 का मीन राशिफल

मीन राशि में राहु का गोचर चतुर्थ भाव में बना हुआ है। जिस वज़ह से मानसिक परेशानी के साथ माता से भी किसी ग़लतफ़हमी की वज़ह से मतभेद हो सकता है। कार्य से जुड़ी छोटी छोटी यात्रा का योग बना हुआ है। साथ ही कुछ ऐसे खर्चे भी होंगे जिनको आप समझ नहीं पाएंगे। वैवाहिक जीवन में आर्थिक स्थिति खराब होने की वज़ह से भी आपसी मतभेद हो सकता है। व्यवसाय में कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेना हो तो बहुत ही सोच समझकर लें। जल्दबाज़ी में कोई नया काम न करें और न ही निवेश करें। आप जिस से प्रेम करते हैं, उनके साथ आपका समय रोमांस से भरा रहेगा और आपसी रिश्ते भी मज़बूत होंगे। सितम्बर से यही राहु मीन राशि से तीसरे भाव में गोचर करेगा। राहु का यह गोचर आपकी सभी परेशानी दूर करेगा और उत्साह व आत्मबल बढ़ाएगा। यह समय नया काम करने के लिए भी उत्तम रहेगा। ये था राहु गोचर 2020 के अनुसार मीन राशि का राशिफल।

उपाय - श्री गायत्री मंत्र का 108 बार ध्यान / पाठ करेंं

(उक्‍त आलेख ख्‍यात हस्तरेखातज्ञ. विनोद्जी पंडित. गुरुजी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार )

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020