Garuda Purana: मृत्यु के बाद स्वर्ग में जगह पाने के लिए इंसानों को अच्छे कर्म करने पड़ते हैं। धर्म, ज्योतिष और गरुड़ पुराण में कर्मों को लेकर बहुत विस्तार से जिक्र है। कहा गया है कि गलत काम मनुष्य को नर्क ले जाते हैं। वह अच्छे काम करने पर स्वर्ग में जगह मिलती है। इसी कारण गरुड़ पुराण को महापुराण कहा गया है। इसमें जिंदगी, निधन और आत्मा के सफर के बारे में बताया गया है। आइए जानते हैं उन कार्यों के बारे में जिन्हें गरुड़ पुराण में महापाप बताया गया है।

भ्रूण हत्या

कोख में ही बच्चे को मार देना बहुत बड़ा पाप है। गरूड़ पुराण में इसे महापाप कहा गया है। ऐसा करने वालों को नर्क में यातनाएं झेलनी पड़ती हैं।

औरतों का अपमान

धर्म में औरतों का अपमान बहुत बुरा माना गया है। खासतौर पर असहाय, विधवा और छोटी कन्या का अपमान करने वालों को नर्क में जगह मिलती है। ऐसे जातकों की आत्मा भटकती रहती है।

असहायों का अपमान

कभी किसी विकलंगा, बुगुर्ग और असहाय व्यक्ति का अपमान और मजाक नहीं उड़ाना चाहिए। ऐसे लोगों को नर्क में दुख भोगने पड़ते हैं।

धर्म-ग्रंथ का अपमान

गरुड़ पुराण के अनुसार हर शख्स को अपने इच्छा के अनुसार धर्म मानना चाहिए। लेकिन कभी किसी दूसरे धर्म या ग्रंथ का अपमान नहीं करना चाहिए। ऐसा करने वालों को नर्क में जगह मिलती है।

महिला पर बुरी नजर से देखना

पराई महिला को बुरी नजर से देखना महापाप है। ऐसा करने वाले लोगों को नर्क में तकलीफें झेलनी पड़ती हैं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Shailendra Kumar