Guru Margi 2022: ज्योतिष शास्त्र में देवगुरु के गोचर को अहम माना गया है। इसका राशि परिवर्तन लोगों के जीवन में कई बदलाव लाता है। बृहस्पति अध्यात्म का ग्रह है, जो शुभता को दर्शाता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार गुरु की कृपा के बिना व्यक्ति को सकारात्मक परिणामों की प्राप्ति नहीं होती। अब गुरु मीन राशि में मार्गी होंगे। आइए जानते हैं मीन राशि में गुरु के विराजमान होने से क्या प्रभाव पड़ेगा।

गुरु मीन राशि में मार्गी की तिथि और समय

गुरु ग्रह आध्यात्मिकता और अच्छी चीजों के लिए जाना जाता है। इसकी मार्गी अवस्था लोगों को आर्थिक रूप से लाभकारी साबित होगी। साथ ही जातकों की मनोकामना पूर्ण करेगी। जो लोग विवाह और नया बिजनेस शुरू करने की योजना बना रहे हैं। उन्हें इस अवधि में काफी लाभ मिलेगा। नौकरी के नए अवसर प्राप्त होंगे। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गुरु की मार्गी चाल वृषभ, वृश्चिक और कन्या राशिवालों को अनुकूल परिणाम देगा। बृहस्पति 24 नवंबर 2022 की सुबह 04.36 मिनट पर मीन राशि में आएंगे।

देश और दुनिया पर मार्गी गुरु का प्रभाव

1. गुरु के मार्गी होने से शिक्षा, मैन्युफैक्चरिंग और खाद्य उद्योग से संबंधित बिजनेस के बढ़ने की संभावना है।

2. भारत और दुनिया भर के देश अच्छि स्थिति में होंगे और लाभ अर्जित करेंगे।

3. धर्म और दान-पुण्य से जुड़े सेक्टर्स में प्रगति होगी।

4. भारत को पड़ोसी देशों से बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है।

5. व्यापार को बढ़ाना देने के लिए पड़ोसी देशों के बीच संबंध बेहतर हो सकता है।

6. राजनीतिक और अवैधानिक गतिविधियों में कमी आ सकती है।

7. गुरु की मार्गी अवस्था का प्रभाव यूएस, यूके और जर्मनी पर प्रतिकूल प्रभाव डालेगा।

8. फाइनेंस और मैनेजमेंट से जुड़े सेक्टर तरक्की कर सकते हैं।

9. जातकों का विश्वास धर्म और आस्था के प्रति अधिक मजबूत होगा।

मार्गी गुरु के दौरान बनेगा योग

गुरु मीन राशि में आकर हंस पंच महापुरुष योग का निर्माण करेंगे। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह योग लोगों को कार्यों के प्रति जिम्मेदार बनाता है। साथ ही अद्वितीय गुणों को जन्म देता है। नौकरीपेशा जातक प्रमोशन और अन्य लाभ प्राप्त करेंगे। हंस पंच महापुरुष योग व्यपारियों के लिए भी लाभकारी होगा।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Kushagra Valuskar

  • Font Size
  • Close