Importance of Charity। हिंदू धर्म में दान का विशेष महत्व है और ऐसा माना जाता है कि दान करने से व्यक्ति को कई जन्मों का शुभ फल प्राप्त होता है। साथ ही हिंदू धर्म में गुप्त दान का महत्व ज्यादा बताया गया है। बगैर किसी दिखावे या किसी लाभ के लिए किया गया दान का महत्व भी ज्यादा होता है। धर्म शास्त्रों में दान को लेकर कई नियम कायदे बताए गए हैं। धार्मिक शास्त्रों में इस बात का भी जिक्र है कि जरूरत की चीजों का समय के अनुसार दान कर दिया जाए तो ज्यादा शुभ होता है और ऐसे में विभिन्न ऋतुओं में दान की जाने वाली चीजों के संबंध में भी जिक्र मिलता है। फिलहाल गर्मी का मौसम चल रहा है और ऐसे में यदि आप गर्मी के मौसम में दान करना चाहते हैं तो इन चीजों का दान जरूर करें -

प्यासे लोगों को जरूर पिलाएं पानी

गर्मी के मौसम में धूप ज्यादा होने के कारण लोगों को ज्यादा पानी की जरूरत होती है। इसलिए गर्मी के मौसम में प्यासे लोगों को पानी पिलाने के लिए व्यवस्था जरूर करना चाहिए। जहां तक संभव हो किसी गरीब को ठंडा पानी पिलाने के लिए मटका जरूर दान करना चाहिए। गर्मी के मौसम में अधिकांश लोग पानी के पंप लगाते हैं ताकि असहाय लोगों को पानी की चिंता न करनी पड़े।

गुड़ के दान का महत्व

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार गर्मी के दिनों में गुड़ का दान करना बहुत लाभकारी माना जाता है। ज्योतिष के मुताबिक गुड़ का दान करने से कुंडली में सूर्य मजबूत होता है और ऐसा करने से व्यक्ति का आत्मविश्वास भी बढ़ता है। मान सम्मान और सफलता भी मिलती है। रोजगार और व्यापार के क्षेत्र में तरक्की होती है।

जौ और सत्तू का दान

गर्मी के मौसम में जौ और सत्तू का दान भी करना चाहिए । ऐसा माना जाता है कि सत्तू का संबंध गुरु और सूर्य से है। गुरु धन और भाग्य की वृद्धि करता है, जबकि सूर्य सफलता-सम्मान-स्वास्थ्य और आत्मविश्वास देता है। यही कारण है कि गर्मियों में सत्तू का दान करने से व्यक्ति को इस जीवन में सफलता मिलती है। यह भी पौराणिक मान्यता है कि गर्मी के मौसम में सत्तू का दान करने से परलोक में भोजन की कमी नहीं होती है।


डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Sandeep Chourey