जो ग्रह आपकी राशि में रहता है उसी के अनुसार आपको फल प्राप्त होते हैं। अत: ग्रह स्थिति के अनुसार विशेष पूजा-अर्चना करनी चाहिए। यदि आपकी कुंडली में कोई ग्रह अशुभ फल देने वाला है तो वह अपनी वर्तमान स्थिति के अनुसार जब तक उस राशि में रहेगा तब तक आपको परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। उसी तरह शुभ ग्रह अच्छा फल प्रदान करते हैं। यहां जानिये कौन सा ग्रह, एक राशि में कितने समय तक रहता है और कब तक आपके जीवन को प्रभावित करता है।

सूर्य- अगर आपकी कुंडली में सूर्य अशुभ है तो आपको सूर्य की वर्तमान स्थिति के अनुसार एक माह तक उसका फल मिलेगा।

चंद्र- किसी राशि वाले के लिए यह ग्रह अशुभ होने पर कुछ समय के लिए ही बुरा फल देता है। यानी सवा दो दिन।

मंगल- एक राशि पर डेढ़ माह तक रहता है इसलिए इसका बुरा फल 45 दिन तक ही रहता है।

बुध- यह ग्रह एक राशि पर 30 तक ही अपना अच्छा या बुरा फल देता है।

गुरु- एक राशि पर गुरु का प्रभाव 12 महीने तक रहता है।

शुक्र- यह ग्रह एक राशि पर 27 दिन तक रहता है। इसलिए इसका शुभ अशुभ प्रभाव 27 दिन तक ही रहता है।

शनि- एक राशि पर शनि का शुभ-अशुभ प्रभाव ढाई साल तक रहता है।

राहु और केतु एक राशि पर डेढ़ साल तक अपना प्रभाव देते हैं। ये दोनो छाया ग्रह है इसलिए इनका शुभ अशुभ प्रभाव बदलता रहता है।

ऐसे समझें ग्रह, नक्षत्रों की चाल

यह समझना जरूरी है कि किस तरह से ही ग्रह नक्षत्र की चाल होती है और किस तरह से हमारे भारत का भौगोलिक भाग इसमें प्रभावित रहता है। हमारे भूभाग जो है भारत का उसकी तो कोई कुंडली होती नहीं है लेकिन जो उसकी पहचान है नाम अध्यक्ष से उसी के अनुसार भी कुछ तथ्य होते हैं। राहु का प्रत्यंतर अभी वृषभ राशि में होना यह एक सत्य का असत्य का उदाहरण बनेगा जबकि ग्रह गोचर के अनुसार वृषभ राशि में राहु चले गए हैं तो असर भी होगा और तो और मित्रों केतु महाराज जो है वह मंगल राशि के राशि वृश्चिक राशि में आ गए हैं।

ऐसे में देखा जाता है कि भूभाग पर जहां पर खटाई है वहां केतु का वास होता है वहां केतु का स्तोत्र माना गया है और केतु की देवता है भगवान श्री गणेश। कोकन महाराष्ट्र में कोकन का जो हिस्सा है उस में सबसे ज्यादा आम होते हैं और तो और वहां ज्यादा भगवान श्री गणेश को पूजा जाता है पूरे को कन में भगवान गणेश जी पूजनीय है। यह इस के दो अर्थ है एक तो भगवान गणेश की पूजा वहां पर बड़ी धूमधाम से होती है।

और वहां पर आम का स्तोत्र है। जहां से आमदनी बढ़ती है तो हमारे भारत में केतु का स्थान जो है वह कोकन का हिस्सा है यानी कि महाराष्ट्र का आखिरी हिस्सा कोकन है। वह इसको केतु के आधार पर देखा गया तो मित्रों राहु बिहार से चलेंगे और केतु महाराज जो है महाराष्ट्र में कोकन से चलेंगे।

अगले ढाई साल में यह होगा

आने वाले 2 साल में 18 महीने तक कई लोगों को राजनीतिक कैरियर छोड़ना पड़ेगा कई लोगों की नौकरी जाएंगी। ऐसे में वृश्चिक राशि में केतु होने के कारण मंगल की आग और केतु की धार यह दोनों एक होने के बाद मंगल अग्नि देगा और केतु उसकी धार से बदला लेगा। इसमें महत्वपूर्ण भूमिका जो रहेगी सैनी की रहेगी जो शनि महाराज राहु और केतु को दोनों को चलाते हैं। राहु केतु सिर्फ शनि महाराज की सुनते हैं और किसी ग्रह की नहीं सुनते हैं तो ऐसे में शनि महाराज का अस्तित्व तो कोर्ट में है जो न्याय के देवता है अब इसमें शनि महाराज जो न्याय करेंगे। इसमें कई सरकार कई पार्टियां कई लोगों की नौकरी कई लोगों का करियर राजनीतिक करियर बहुत सारा नष्ट होने वाला है, जैसे कि यह हमने कभी देखा नहीं है।

राहु राक्षस है वह एक पाप ग्रह है क्योंकि राहु रातों-रात बाजी पलट देता है। बिहार में क्या होगा और महाराष्ट्र में क्या होगा यह तो जनता और राहु तय करेगी अब ऐसे में यह देखा जाएगा कि इसमें राहु जो है नशा का कारक है जेल का कारक है तो यह जो अभी फिल्म इंडस्ट्री का ड्रग्स मामला निकल रहा है वह भी एक राहु के अंतर्गत आता है। यह भी राहु से ही जुड़ा है अब देखिए आगे आगे आपको सब देखने को मिलेगा।

18 महीने में सारी बातें जो जनता नहीं जानती है वह भी आपके सामने राहुल आकर खड़ा करेगा और शनि महाराज कोर्ट से न्याय करके दंडित करेंगे और फिर से हमारा समाज अच्छे की तरफ चलेगा सब लोग इस सीख सीख जाएंगे इसमें भी जिसको शनि की साढ़ेसाती चल रही है वह पहले चपेट में आ जाएगा तो ऐसे लोगों ने शनि राहु और केतु का उपाय करना आवश्यक है फिर वह कोई भी जातक हो।

(उक्‍त आलेख ख्‍यात हस्तरेखातज्ञ. विनोद्जी पंडित. गुरुजी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार )

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020