Mahashivratri 2020 पर देश और दुनिया में भक्त भोलेनाथ की भक्ति डूबे हुए हैं। महाशिवरात्रि के इस मौके पर हम आपके लिए पश्चिम निमाड़ में Barwani और Manawar के पास स्थित एक ऐसे Shiva Temple की जानकारी लेकर आए हैं जो हजार साल पुराना है लेकिन प्रशासनिक अनदेखी के चलते इसके बारे में कम ही लोगों को जानकारी है। हम बात कर रहे हैं धार जिले के मनावर के पास नर्मदा किनारे स्थित एक छोटे से लेकिन प्राचीन गांव गांगली की। यहां आज से नहीं बल्कि हजारों सालों से भगवान नंदिकेश्वर का शिवलिंग स्थापित है।

इस पवित्र स्थान की एक और खास बात है यहां स्थित गंगा कुंड, इस गंगा कुंड से निरंतर जल प्रवाहित रहता है जो बहकर सीधे मां नर्मदा के आंचल में समा जाता है। यहीं होता है मां गंगा और नर्मदा का मिलन। जिस जगह यह मिलन होता है वहीं मां नर्मदा की गोद में एक शिवलिंग स्थापित है जो नर्मदा का जलस्तर कम होने पर ही नजर आता है। इसी शिवलिंग को नंदिकेश्वर शिवलिंग कहा जाता है। मान्यता है कि यहां बने गंगा कुंड की वजह से इस स्थान का नाम गांगली हुआ था।

शिवपुराण और स्कंध पुराण के रेवाखंड में मिलता है वर्णन

हम जिस पवित्र और प्राचीन स्थान गांगली की बात कर रहे हैं उसका जिक्र पुराणों में भी मिलता है। गांगली का वर्णन स्कंध पुराण के रेवाखंड और शिवपुराण में मिलता है। साथ ही शिवपुराण के पेज नंबर 521 से नंदिकेश्वर महादेव और गंगा कुंड का भी वर्णन मिलता है। हालांकि, सालों पहले आई बाढ़ के बाद गांगली को पुनर्वास स्थल में स्थानांतरित कर दिया गया और इस जगह को अब साततलाई के नाम से जाना जाता है। इसी के साथ गांगली में स्थित नंदिकेश्वर शिवलिंग को छाया स्वरूप में साततलाई में स्थापित किया गया।

ऐसे हुआ था अवतरण

भगवान नंदिकेश्वर को लेकर एक प्राचीन कथा का वर्णन मिलता है जिसके अनुसार प्राचीनकाल में ऋषिका नाम की एक बाल विधवा ने गांगली में नर्मदा किनारे शिव के पार्थिव शिवलिंग बनाकर पूजा-अर्चना शुरू की। लगातार पूजा और संयमित जीवन से उसका मुख दैदिव्यमान हो गया। उसे देखकर एक राक्षस उस पर मोहित हो गया और उस बाल विधवा को आकर्षित करने की कोशिश करने लगा। ऐसा करने में जब वो असफल रहा तो राक्षस ने ऋषिका पर हमला किया। ऐसे में भगवान की भक्ति में लीन ऋषिका ने भगवान शिव से मदद की गुहार लगाई।

भक्त की गुहार सुन भगवान शिव प्रगट हुए और राक्षस का वध कर ऋषिका की रक्षा की। इसके बाद भोलेनाथ ने ऋषिका से वर मांगने के लिए कहा। ऐसे में ऋषिका ने कहा कि भगवान के दर्शन से ही उसकी मनोकामनाएं पूरी हो गई। लेकिन शिव के आग्रह पर ऋषिका ने भगवान से वहीं लिंग रूप में स्थापित होने का वर मांग लिया। भगवान भोले उसे तथास्तु कहकर लिंग रूप में उसी स्थान पर विराजमान हो गए और तब से इस शिवलिंग को नंदिकेश्वर शिव के रूप में पूजा जाता है। यह शिवलिंग आज भी नर्मदा के बीच में स्थित है जो बैकवॉटर की वजह से अब दृष्टिगत नहीं होता लेकिन उनके छाया स्वरूप एक शिवलिंग ऊंची पहाड़ी पर स्थापित किया गया। हालांकि, लगातार नर्मदा के बढ़ते जलस्तर के कारण इस शिवलिंग को कुछ सालों पहले साततलाई में स्थानांतरित किया गया है। इस मंदिर की पूजा और देखरेख दशकों से गांव में ही रहने वाला गायवक परिवार करता आ रहा है।

गंगा कुंड जहां से निकलकर मां रेवा से मिलती है गंगा

शिवपुराण में गांगली में बने गंगा कुंड का भी वर्णन मिलता है। गांव में ही नर्मदा किनारे जहां नंदिकेश्वर भागवान का मंदिर था उसी के नीचे एक कुंड बना है जिसमें लगातार पानी निकलता है। मान्यता है कि यह अति प्राचीन है और कुंड में जो पानी निकलता है उसका रंग और स्वाद गंगा जल की तरह है। इससे निकलने वाला जल बहते हुए सीधे नर्मदा में जाकर मिलता है और वो भी उस जगह पर जहां वास्तविक नंदिकेश्वर का शिवलिंग स्थापित है। इस स्थान पर प्रतिवर्ष वैशाख शुक्ल सप्तमी यानी गंगा दशहरे पर मेला लगता है और दूर-दूर से भक्त आकर स्नान और पूजा कर पुण्य लाभ प्राप्त करते हैं। गंगा के आगमन के कारण ही इस स्थान का नाम गांगली कहा जाने लगा।

ऐसे पहुंच सकते हैं इस स्थान पर

गांगली गांव निमाड़ में धार जिले की मनावर तहसील के अंतर्गत आता है। इंदौर से यह स्थान लगभग 160 किमी दूर स्थित है वहीं मनावर और बड़वानी दोनों ही जगहों से 25-30 किमी की दूरी पर स्थित है। यहां आप बस और अपने निजी वाहन से पहुंच सकते हैं। इस प्राचीन और धार्मिक स्थल के दर्शन हेतु पहले इंदौर से मनावर तक सीधे बस या निजी वाहन से जाया जा सकता है। मनावर से करीब आधे घंटे के सफर के बाद आप गांगली पहुंच सकते हैं।

यहां पहुंचने के लिए मनावर दो रास्ते हैं जिनमें से एक रास्ता सिंघना होते हुए गणपुर होते हुए साततलाई(गांगली) पहुंचा जा सकता है जो गणपुर से महज 5-7 किमी दूर है। वहीं एक रास्ता करोली, सेमल्दा होते हुए साततलाई पहुंचता है। अगर आप चाहें तो इस जगह पर बड़वानी से भी आ सकते हैं और इसके लिए आपको बड़वानी से बस या निजी वाहन मिल जाते हैं।

Posted By: Ajay Barve