Budh Rashi Parivartan 2021: ज्योतिष शास्त्र में बुध को तठस्थ ग्रह माना गया है। यह ऐसा ग्रह है, जो कुंडली में जिस ग्रह के साथ होता है। उसी के अनुरूप जातक को अच्छे और बुरे परिणाम देने के लिए जाना जाता है। बुध ग्रह व्यक्ति में बुद्धि, वाणी, लेखन, संचार, व्यापार और बोलने की क्षमता को नियंत्रित करता है। बुध को एक शुभ ग्रह कहा जाता है। मिथुन और कन्या राशि का शासन बुध को प्राप्त है। बुध का 21 नवंबर रविवार सुबह 4.37 बजे वृश्चिक राशि में प्रवेश किया है। वह 10 दिसंबर 2021 सुबह 5.53 बजे तक इस राशि में गोचर करेंगे। बुध के राशि परिवर्तन के सभी 12 राशियों पर इसका प्रभाव पड़ेगा। आइए जानते हैं क्या शुभ-अशुभ परिणाम देखने को मिलेंगे।

मेष (Aries)

बुध मेष राशि के आठवें भाव में गोचर कर रहा है। मेष राशि के जातकों को आर्थिक स्थिति प्रभावित होगी। घर में कई सदस्य का स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। छात्रों और व्यापारियों के लिए 10 दिसंबर तक सब कुछ सामान्य रहेगा। घर में किसी कोई बात को लेकर विवाद हो सकता है।

वृषभ (Taurus)

बुध आपकी राशि के विवाह और पार्टनरशीप के सप्तम भाव में गोचर रहा है। यह राशि परिवर्तन करियर के अनुकूल रहेगा। प्रेम विवाह के लिए अच्छा समय है। किसी नकारात्मक प्रवृत्ति के व्यक्ति के साथ संपर्क बनेंगे। प्रॉपर्टी संबंधित किसी भी कार्य को 10 दिसंबर तक के लिए स्थगित कर दें। कर्मचारियों को मानसिक तनाव रहेगा।

मिथुन (Gemini)

मिथुन राशि में बुध पहले और चौथे भाव के स्वामी है। इस गोचर से आपकी अध्यात्म और धर्म कार्य में रुचि बढ़ेगी। मन में किसी कारण अशांति रहेगी। व्यापारियों के लिए बुध का राशि परिवर्तन फलदायक रहेगा। नौकरीपेशा वर्ग को इस अवधि में कोई अच्छा ऑफर भी प्राप्त हो सकता है।

कर्क (Cancer)

बुध का राशि परिवर्तन से कर्क राशि के जातकों को कोई रुका कार्य पूरा होगा। परिवार और दोस्तों के साथ कहीं विदेश यात्रा के योग्य रहेंगे। कार्यक्षेत्र में परिवर्तन और प्रमोशन हो सकता है। किसी भी काम को टाले नहीं। जीवन साथी का पूरा साथ मिलेगा। वाहन चालते समय सावधान रहें।

सिंह (Leo)

सिंह राशिवालों के किसी क्षेत्र में सफलता मिलने की संभावना हैं। इस लिए पूरा ध्यान लक्ष्य की तरफ लगाएं। स्वभाव में चिड़चिड़ापन बढ़ सकता है। किसी नजदीकी से विवाद होने की आशंका रहेगी। बेवजह के खर्चें बढ़ेंगे। स्वास्थ्य सामान्य रहेगा। काम का बोझ बढ़ सकता है।

कन्या (Virgo)

कन्या राशि के लिए बुध पहले और दशम भाव के स्वामी है। इस राशि के जातक नकारात्मक परिस्थितियों को काबू पाने में सक्षम रहेंगे। मान सम्मान और वर्चस्व में बढ़ोतरी होगी। व्यापारियों के लिए फायदेमंद स्थितियां रहेंगी। जीवन साथी के साथ किसी कारण मनमुटाव हो सकता है।

तुला (Libra)

बुध तुला राशि के नवम भाव के स्वामी है। बुध का राशि परिवर्तन इस राशिवालों के लिए शुभ रहेगा। कोई नया घर या प्रॉपर्टी खरीदने की योजना पूरी होगी। कर्मचारियों के अधिकारी और बॉस प्रसन्न रहेंगे। मनोरंजन और सौंदर्य प्रसाधन संबधि व्यापार में उन्नति के योग है। घर का माहौल मर्यादित रहेगा।

वृश्चिक (Scorpio)

वृश्चिक के लिए बुध अष्टम और एकादश भाव के स्वामी है। बुध के गोचर से धार्मिक आयोजन में जाने का अवसर मिलेगा। नौकरीपेशा जातकों को ऑफिस से संबंधित किसी कार्य से यात्रा करनी पड़ सकती है। बदलते मौसम में खांसी और जुकाम की परेशान कर सकता है।

धनु (Sagittarius)

धनु राशि के जातकों को विशेष मुकाम हासिल होगा। आर्थिक स्थिति में लाभ होगा। घर में रखरखाव और परिवर्तन संबंधी योजना बन सकती हैं। छात्रों को करियर में तनाव करेगा। व्यापारियों के लिए फायदेमंद स्थितियां बनेंगी। विवाह योग जातकों को मनपसंद साथी मिलेगा।

मकर (Capricorn)

मकर राशिवालों का कोई रुका पैसा मिल सकता है। आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। किसी नकारात्मक गतिविधि के कारण नुकसान हो सकता है। पति-पत्नी के संबंधों में मधुरता रहेगी। यूरिन इंफेक्शन जैसी दिक्कत हो सकती हैं।

कुंभ (Aquarius)

कुंभ राशि के जातकों को किसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। जीवन साथी के साथ संबंध मधुर बनाकर रखें। अचानक मेहमानों का आना-जाना बढ़ सकता है। करियर नें स्थिरता महसूस होगी।

मीन (Pisces)

बुध मीन राशि के चतुर्थ और सप्तम भाव के स्वामी है। बुध के गोचर के आपको धन लाभ होगा। अधिकतर समय बाहर की गतिविधियों में व्यस्त रहेंगे। अचानक कोई उपलब्धि हासिल हो सकती है। मानसिक रूप से उतार-चढ़ाव रहेगा। जीवन साथी के कारण आर्थिक नुकसान हो सकता है।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Arvind Dubey