Navratri 2022 Day 8: नवरात्रि 26 सितंबर से शुरू होकर 5 अक्टूबर को दशहरा के साथ समाप्त होगी। शारदीय नवरात्रि के दिनों में लोग व्रत रखते हैं। देवी दुर्गा के नौ अवतारों की पूजा-अर्चना करते हैं। 8वें दिन महाअष्टमी पर देवी महागौरी की पूजा की जाती है। देवी महागौरी के वस्त्र एवं आभूषण श्वेत हैं। इनकी चार भुजाएं और वाहन वृषभ है। दाहिना हाथ अभय मुद्रा और दूसरे हाथ में त्रिशूल है। बाएं हाथ में डमरू और नीचे का बायां हाथ वर-मुद्रा में है। ये सुवासिनी, शांतमूर्ति और शांत मुद्रा हैं। मां की कृपा से अलौकिक सिद्धियों की प्राप्ति होती है। देवी महागौरी भक्तों का कष्ट दूर करती हैं। साधन को आध्यात्मिक ज्ञान और मोक्ष प्रदान करती हैं।

नवरात्रि अष्टमी शुभ मुहूर्त

महाअष्टमी 02 अक्टूबर को शाम 6.47 बजे शुरू होगी और 03 अक्टूबर को दोपहर 4.37 बजे समाप्त होगी। संधि पूजा का समय दोपहर 4.13 बजे से शाम 5.01 बजे तक है। अगर आप सरस्वती प्रधान पूजा करना चाहते हैं, तो पूर्व आषाढ़ पूजा मुहूर्त का समय 03 अक्टूबर को सुबह 7.31 बजे से दोपहर 1.09 बजे तक है।

नवरात्रि के खास उपाय

- अगर काम में सफलता नहीं मिल रही है, तो अष्टमी के दिन एक चांदी की कटोरी में कपूर और लौंग जलाकर घर में घुमाएं। इससे सारी बाधाएं खत्म हो जाएंगी।

- नवरात्रि में प्रातः काल श्रीरामरक्षा स्त्रोत का पाठ करने से हर कार्य सफल होते हैं। मार्ग में आने वाली समस्य विघ्न बाधाएं दूर होती हैं।

- नवरात्रि में पान के पत्ते पर केसर रखकर दुर्गा स्त्रोत का पाठ करें। घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होगा।

- देवी दुर्गा के बीज मंत्र ऊँ दुं दुर्गाय नमः का जाप 108 बार करें। इससे जातक की सभी मनोकामना पूरी होने लगती है।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Kushagra Valuskar

  • Font Size
  • Close