Peeli Sarson Upay: हर व्यक्ति अपने जीवन में सुख-शांति और धन वैभव की प्राप्ति हो, लेकिन कई बार व्यक्ति को निराशा हाथ लगती है। ज्योतिष शास्त्र में इस निराशा को दूर करने के लिए कुछ उपायों के बारे में बताया गया है। इन उपायों को करने से मां लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहती है। किचन में उपयोग की जाने वाली कुछ चीजें खाने का स्वाद बढ़ाती हैं लेकिन वे चीजें व्यक्ति के जीवन के कष्टों को दूर करने में भी मदद करती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार आज हम पीली सरसों के उन उपायों के बारे में जानेंगे, जिन्हें करने से घर की नकारात्मकता दूर होती है। साथ ही घर की आर्थिक स्थिति में भी सुधार होता है।

नकारात्मकता दूर करने के लिए

कई बार घर की नकारात्मकता व्यक्ति की तरक्की में बाधा बनती है। साथ ही उनके बनते कार्य बिगड़ने लग जाते हैं। अगर आपके घर में नकारात्मकता का साया है तो हफ्ते के किसी एक दिन घर की छत या आंगन में पीली सरसों के दानों का छिड़काव कर दें। ऐसा करने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है। व्यक्ति को हर कार्य में सफलता मिलने लगती है।

मां लक्ष्मी की कृपा

हर व्यक्ति मां लक्ष्मी की प्रसन्न कर उनकी कृपा पाना चाहता है। अगर आप भी अपने जीवन में मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो पीली सरसों के दानों को कपूर के साथ किसी चांदी की कटोरी में जला दें। ऐसा करने से घर पर मां लक्ष्मी की कृपा बरसेगी और कभी भी धन की कमी नहीं होगी।

आर्थिक तंगी से छुटकारा

अगर आप काफी लंबे समय से तंगी से जूझ रहे हैं या फिर कोई धन संबंधी परेशानी से आप घिरे हुए हैं, तो गुरुवार के दिन पीली सरसों को गंगाजल से धोकर शुद्ध करें। अब पीली सरसों के इन दानों को कपूर के साथ पीले रंग के कपड़े में बांधकर पोटली बना लें। इस पोटली को घर के मुख्य दरवाजे पर लटका लें। ये उपाय व्यक्ति की धन से संबंधित हर परेशानी को दूर करता है।

Shukra Gochar: 5 दिसंबर से बदल जाएगी इन राशि वालों की तकदीर, शुक्र होंगे मेहरबान, जमकर होगी धनवर्षा

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Sharma

  • Font Size
  • Close