Samudra Shastra lines of feet। अक्सर हम देखते हैं कि लोग अपने हाथ की रेखाओं के जरिए भविष्य जानते हैं लेकिन बहुत कम लोगों का पता है कि समुद्र शास्त्र में बताया गया है कि हमारे पैरों की रेखाओं भी हमारा भविष्य बता सकती है। समुद्र शास्त्र में माथे और पैर की रेखाओं, शरीर के विभिन्न अंगों की बनावट, तिल, निशानों आदि के जरिए व्यक्ति के आचार-विचार, व्यवहार के बारे में जानने का तरीका बताया गया है। समुद्र शास्त्र में बताया गया है कि हमारे पैरों में मौजूद कुछ निशान और रेखाएं हमारे लिए काफी शुभ होती हैं। यह निशान-रेखाएं व्यक्ति को अपार धन-दौलत दिलाती है और साथ ही नौकरी या रोजगार के क्षेत्र में में अच्छा मुकाम दिलाती है।

ऐसे जाने पैर की रेखाओं से भविष्य

- यदि आपके पैर में कोई रेखा मध्य से मध्यमा अंगुली तक जाती है तो ऐसे लोगों को जीवन में सभी सुख-सुविधाएं प्राप्त होती हैं। उन्हें भरपूर धन और सुखी और पारिवारिक जीवन में सहयोग मिलता है।

- व्यक्ति के पैरों में शंख, चक्र, मछली, कमल के फूल जैसे निशान होते हैं, वह भाग्यशाली होता है। धार्मिक-आध्यात्मिक जीवन में कोई महान स्थान प्राप्त होता है। समाज में सम्मान भी प्राप्त होता है।

- पैरों में यदि छत्र, चक्र, झंडा, स्वास्तिक, कुंडल, रथ जैसे बहुत ही शुभ चिह्न दिखाई देते हैं तो ऐसा व्यक्ति राजा के समान जीवन जीता है। समुद्र शास्त्र के अनुसार ऐसा व्यक्ति सम्राट बनता है। ऐसा भी माना जाता है कि इन लोगों को प्रधानमंत्री का पद भी मिलता है।

- पैर के अंगूठे में खड़ी रेखा हो तो वह विवाह के मामले में बहुत भाग्यशाली होता है। ऐसे लोगों की शादी जल्द होती है और उसे एक बहुत ही प्यारा साथी मिल जाता है।

- जिस व्यक्ति के दाहिने पैर में माला, अंकुश, चक्र का चिन्ह होता है, उस व्यक्ति को कोई भी उच्च पद प्राप्त नहीं हो सकता है, लेकिन उसका जीवन राजाओं की तरह धन और वैभव के बीच व्यतीत होता है।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Sandeep Chourey