Shani Budh Margi: शनिदेव और बुध ग्रह जो इस समय विपरीत चाल चल रहे हैं। वे अब मार्गी होने जा रहे हैं। न्याय के देवता शनि और ग्रहों के राजकुमार बुध अक्टूबर में मार्गी होंगे। इनके वक्री होने से कई राशि वालों को जहां कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। ग्रहों के मार्गी होने से कई प्रकार की समस्याओं से राहत मिलेगी। इसके साथ ही चार राशि वालों के लिए यह काफी अच्छा समय होने वाला है। शनिदेव महाराज को शुभ और अशुभ कर्मों का फल दाता कहा जाता है। वहीं बुध को वैभव और ऐश्वर्य का स्वामी माना जाता है। आइए जानते हैं कि शनि और बुध के मार्गी होने के कारण किन राशि वालों की दिवाली शानदार मनेगी।

मेष राशि

मेष राशि वालों के लिए शनि और बुध का मार्गी होना काफी शुभ परिणाम लेकर आ रहा है। अगर आप कोई बिजनेस करते हैं तो अच्छा ऑर्डर आपको मिल सकता है। इसके साथ ही अगर आप नौकरी पेशा हैं तो आपको लिए यह बहुत ही अच्छे नौकरी के अवसर लेकर आ रहा है।

वृषभ राशि

इन दोनों ग्रहों के मार्गी होने से वृषभ राशि वालों के लिए यह काफी लाभकारी साबित होगा। शनि के मार्गी होने से इन राशि वालों को बहुत ही शुभ परिणाम प्राप्त होने वाले हैं। वृषभ राशि के लोगों को मान-सम्मान मिलेगा साथ ही समाज में एक विशेष व्यक्ति के तौर पर भी जाना जाएगा।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के लोगों के लिए बुध और शनि का मार्गी होना काफी खास होने वाला है। मिथुन राशि वालों के लिए यह समय धन कमाने के मामले में बहुत अच्छा होगा। इस समय आपको अपनी कमाई पर ध्यान देना चाहिए। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्रों को शुभ परिणाम मिलेंगे।

धनु राशि

धनु राशि वाले जातकों को भी बुध और शनि के मार्गी होने से लाभ होने वाला है। इस राशि के जातकों को दिवाली के आसपास धन के कई साधन मिलेंगे। धनु राशि के जातकों की आय में भी सफलता मिलेगी। अगर आप व्यापार करते हैं तो बहुत बड़ा लाभ होने के योग बन रहे हैं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Shrma

  • Font Size
  • Close