Shani Rashi Parivartan: शनिवार का दिन ग्रहों के न्यायाधीश शनिदेव को समर्पित माना जाता है। सावन के महीने में भगवान शंकर के साथ-साथ शनिदेव की पूजा करने से भी बहुत लाभ प्राप्त होता है। सावन में शनिदेव की पूजा अति लाभकारी मानी गई है। वहीं शास्त्रों के अनुसार सावन में पड़ने वाले शनिवार को शनिदेव की पूजा करने से शनिदोष का प्रभाव भी कम होता है। वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनिदेव कुछ राशियों पर अपनी विशेष कृपा रखते हैं। माना जाता है कि जिन राशियों पर शनिदेव की विशेष कृपा दृष्टि होती है उनके सारे काम आसानी से हल हो जाते हैं। वहीं सावन का तीसरा शनिवार 30 जुलाई को है। सावन का तीसरा शनिवार कुछ राशि वालों के लिए काफी लाभकारी साबित होने वाला है।

तुला राशि

तुला राशि के जातकों पर शनिदेव की विशेष कृपा होती है। वहीं तुला राशि में शनिदेव उच्च के होते हैं। साथ ही तुला राशि वालों को शनिदेव की कृपा से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। तुला राशि के जातक काफी प्रभावशाली माने जाते हैं। माना जाता है कि शनिदेव की कृपा से तुला राशि के जातकों का जीवन सुख-सुविधाओं से भरपूर रहता है।

मकर राशि

मकर राशि के स्वामी ग्रह स्वयं शनिदेव हैं। वहीं शनिदेव की विशेष कृपा से मकर राशि के जातकों को हर काम में सफलता मिलती है। मकर राशि के जातक काफी मेहनती स्वभाव के माने जाते हैं। मकर राशि के जातकों का वैवाहिक जीवन काफी खुशहाल रहता है। मकर राशि वाले बहुत भाग्यशाली माने गए हैं।

कुंभ राशि

कुंभ राशि के जातकों पर भी शनिदेव की कृपा दृष्टि हमेशा बनी रहती है। वहीं शनिदेव की दूसरी राशि कुंभ है। कुंभ राशि पर शनिदेव हमेशा अपनी कृपा बरसाते हैं। शनिदेव की कृपा से कुंभ राशि के जातकों को जीवन में कभी भी पैसों की कमी नहीं आती है। समाज में भी मान-सम्मान बना रहता है।

शनि के प्रकोप से बचने के उपाय

वहीं मिथुन, वृश्चिक और धनु राशि वालों को शनि के प्रकोप से बचने के लिए शनि के इस मंत्र ऊँ प्रां प्रीं प्रौं शनैश्चराय नमः का जाप करना चाहिए। इससे शनिदेव की कृपा बनी रहती है और व्यक्ति शनि के प्रकोप से बचता है।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By:

  • Font Size
  • Close