Religious Katha: देवराज इंद्र एक बार गुरु बृहस्पति के साथ भगवान शिव के दर्शन के लिए कैलाश पर्वत गए थे। महादेव ने दोनों की परीक्षा लेना चाही, इसलिए उन्होंने अपना रूप बदल लिया और अवधूत बन गए। उसका शरीर जलती हुई आग की तरह धधक रहा था और अत्यंत भयावह लग रहा था। अवधूत दोनों की राह में रोड़ा बनकार खड़ा हो गया। रास्ते में एक अजीब आदमी को खड़ा देखकर इंद्र चौंक गए।

इंद्र को देवराज होने पर गर्व होने लगा। उन्होंने उस भयंकर आदमी से पूछा कि तुम कौन हो? क्या भगवान शिव वर्तमान में कैलाश पर निवास कर रहे हैं या वे कहीं यात्रा कर रहे हैं? मैं उन्हें देखने आया हूं। देवराज इन्द्र ने बहुत से प्रश्न पूछे लेकिन अवधूत योगियों की तरह चुप रहा। इंद्र को लगा कि कोई साधारण प्राणी उनका अपमान कर रहा है। उनके मन में देवराज होने का अहंकार पैदा हुआ जो क्रोध में बदल गया।

इंद्र ने कहा, मेरे बार-बार अनुरोध करने के बावजूद तुम कुछ न कहकर मेरा अपमान कर रहे हो। अब मैं तुम्हें दण्ड देता हूं। यह कहकर इंद्र ने वज्र उठा लिया, जिसे भगवान शिव ने उसी समय दबा दिया। इंद्र का हाथ अकड़ गया। अवधूत के रूप में भगवान शिव क्रोध से लाल हो गए। उनके चेहरे पर क्रोध की ज्वाला देखकर बृहस्पति समझ गए कि ऐसा भयंकर रूप महादेव के अलावा और किसी का नहीं हो सकता।

बृहस्पति ने शिवस्तुति गाना शुरू किया। उन्होंने इंद्र को भी महादेव के चरणों में लिटा दिया और कहा, भगवान इंद्र आपके चरणों में लेटे हुए हैं। आपकी शरण हैं। आपके माथे से निकली आग उन्हें जलाने के लिए बढ़ रही है। हम शरणार्थियों की रक्षा करें। आप इस ज्वारा को कहीं और स्थान दें ताकि इंद्र का जीवन सुरक्षित रहे।

भगवान शिव ने कहा, बृहस्पति, मैं तुम पर बहुत प्रसन्न हूं। इन्द्र को प्राण देने के कारण तुम्हारा एक नाम 'जीव' भी होगा। मेरे तीसरे नेत्र से निकलने वाली इस अग्नि की गर्मी को देवता सहन नहीं कर सकते। तो मैं इसे बहुत दूर छोड़ दूंगा। महादेव ने उस चिंगारी को हाथ में लेकर समुद्र में फेंक दिया। जैसे ही इसे वहां फेंका गया, भगवान शिव का तेज तुरंत एक बच्चे में बदल गया। सिंधु से इसकी उत्पत्ति के कारण इसका नाम सिंधुपुत्र जालंधर प्रसिद्ध हुआ।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close