Ramayana Story in Hindi: वनवास के दौरान श्रीराम, माता सीता और लक्ष्मण जी के साथ अत्रि मुनि के आश्रम में पहुंचे थे। प्रणाम कर आशीर्वाद ग्रहण किया। सीता जी उनकी पत्नी अनसूया से मिलीं। उन्होंने सीता को स्त्री और पतिव्रत धर्म के बारे में बताया। कहा, देवी आप आदर्श हैं और जानती हैं कि एक महिला को किस तरह आचरण करना चाहिए।

श्रीराम ने खुद को बताया सेवक

माता सीता के अनुसूया से स्त्री धर्म का उपदेश सुनन के बाद श्रीराम ने अत्रि मुनि से आगे चलने के लिए आज्ञा मांगी। कहा कि मुझ पर आप कृपा बनाए रखें और अपना सेवक जानकर सभी स्नेह न छोड़िएगा। ज्ञानी मुनि ने उनके वचन सुनने के बाद कहा, 'ब्रह्मा, शिव और विष्णु सभी तत्ववेत्ता जिनकी कृपा चाहते हैं। हे राम आप वही निष्काम पुरुषों के प्रिय और दीनों के बंधु भगवान है।'

बादल करते हैं छाया

तुलसीदास जी मानस में लिखते हैं, जिस तरह ब्रह्म और जीव के बीच माया होती है। ठीक उसी तरह राम और लक्ष्मण के बीच में सीता चल रही हैं। नदी, वन, पर्वत और घाटियां सभी अपने स्वामी को पहचान कर रास्ता देते हैं। जहां रघुनाथ जी जाते हैं, आसमान में बादल चलते हुए छाया करते हुए चलते हैं, ताकि प्रभु, उनकी पत्नी और भाई को ताप न लगे।

राक्षस ने रोका रास्ता

रास्ते में विराध नाम का राक्षस मिला। वह श्रीराम का रास्ता रोककर खड़ा हो गया। सामने से नहीं हटने पर प्रभु ने उसका वध कर दिया। श्रीराम के हाथों मरते ही उसने सुंदर दिव्य रूप प्राप्त किया। फिर भी वह दुखी था। उसने कहा कि आपके हाथों मरने के बाद कौन जीता चाहेगा। उसका दुख देखकर रघुनाथ ने उसे परमधाम भेज दिया।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close