Satsang: छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले के अलग-अलग गांव और शहर में इन दिनों विविध धार्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम हो रहे हैं। इन आयोजनों में धार्मिक पात्रों की जीवन प्रस्तुति दी जा रही है। अंचल में धार्मिक कार्यक्रम होने से अंचल धर्ममय हो गया है। रामधुनी, रामसत्ता, मानसगान सहित अन्य आयोजनों में लोगों की भागीदारी देखते ही बन रही है। इन आयोजनों में स्थानीय कलाकारों के साथ ही साथ अन्य जिलों के कलाकार पहुंचकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर रहे हैं।

प्रभु श्रीराम की कथा मानव जीवन को भवसागर से पार करा देती है

प्रतिवर्ष अनुसार इस वर्ष भी सोरिद वार्ड में दो दिवसीय रामधुनी झांकी महोत्सव का आयोजन किया गया। तीजा पर्व पर यह आयोजन किया गया। नागदेव मंदिर चौक कला मंच हटकेशर वार्ड एवं शांति चौक सोरिद नगर धमतरी में आयोजित की गई। इस पावन अवसर पर विधायक प्रतिनिधि डीपेंद्र साहू ने वार्डवासियों को तीज पर्व की बधाई दी। इस अवसर पर डीपेंद्र साहू ने कहा कि प्रभु श्रीराम नाम का गुणगान हमें भवसागर से पार करा देता है। उनकी कृपा दृष्टि से हमारा मानवीय जीवन सफल हो जाता है।

भगवान श्रीराम की कथाओं को झांकी एवं रामधुनी में विभिन्न मंडलियों के द्वारा कथाओं को परोसा जा रहा है। जिनके श्रवण करने मात्र से हमारा जीवन श्रद्धा, भक्ति, प्रेम और स्नेह परमपिता परमेश्वर के प्रति स्नेह से ही झुक जाता है। आदर्श पुरुष भगवान श्री राम सब के जीवन में खुशहाली लाए। तीजहारिन माताओं बहनों को सुख-समृद्धि खुशी प्रदान करे। आयोजन के लिए आयोजक समिति को बधाई।

भाजपा के वरिष्ठ एवं पूर्व पार्षद दयाशंकर सोनी ने कहा कि प्रभु की लीलाएं और उनका जीवन चरित्र हमें आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करती है। उनका प्रेम जनमानस के लिए संदेश है कि सदैव सदाचारी जीवनयापन कर भक्तिमय जीवन से हमारा जीवन आनंदित होता रहे। इस अवसर पर लक्ष्‌मी नारायण साहू,पार्षद रितेश नेताम, कोमल सार्वा,भूषण साहू, कमलेश पटेल, नंद कुमार देवांगन, पुरुषोत्तम देवांगन, रामनारायण यादव, प्रीतम सिन्हा, पंचू राम नेताम, रामकुमार सिन्हा सहित बड़ी संख्या में श्रोता उपस्थित रहे।

भगवान शिव और पार्वती के पुनर मिलाप का प्रतीक है तीज पर्व-महापौर

सोरिद वार्ड में चल रहे दो दिवसीय रामधुनी मानसगान प्रतियोगिता का शुभारंभ मुख्य अतिथि महापौर विजय देवांगन, अध्यक्षता पार्षद सोमेश मेश्राम, अतिविशिष्ट अतिथि कुशल देवांगन,मोहन यादव,दौलत राम ठाकुर की उपस्थिति में हुआ। इस अवसर महापौर विजय देवांगन ने माताओं एवं बहनों को तीजा पर्व की बधाई देते हुए कहा कि भगवान शिव को पाने के लिए मां पार्वती ने कठोर तपस्या की थी।

भगवान शिव और पार्वती के पुनर्मिलाप का प्रतीक है तीज पर्व। तभी से हर वर्ष यह हरतालिका तीज का व्रत सुहागिन महिलाएं अपने पति को लंबी आयु और सौभाग्य के लिए रखती हैं। यह अवसर पर प्रभु की आराधना और भक्ति में लीन होने का माध्यम है। धार्मिक आयोजनों से पवित्रता का संचार होता है।

तीज का यह त्योहार बहनों के सौभाग्य का त्योहार है। सभी बहनें भगवान शिव से अपने पति व परिवार की दीर्घायु व सुखद सफल जीवन की कामना करती हैं। मां- बहनों का आशीर्वाद सदैव फलीभूत होता है। इस अवसर पर फुलबती बाई, आशा बाई, आनंद ठाकुर, मोहित पटौदी, पंचू राम नेताम,इतवारी ठाकुर,दौलत ठाकुर,रामनाथ यादव, प्रीतम सिन्हा, नंदकुमार देवांगन, विष्णु राम, रमेश कुमार, महान सिंह, बबलू साहू सहित काफी संख्या में लोग उपस्थित रहे।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close