हर शख्स चाहता है कि उसके परिवार में खुशहाली बनी रहे और परिवार के सदस्यों के बीच कभी मन-मुटाव न आए। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि परिवार की खुशहाली का संबंध आपके घर की साज-सजावट से भी होता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में सजावट वाला सामन लाने से पहले उसे किस दिशा में लगाना सही होगा, ये जान लेना बहुत जरूरी होता है। इस खबर के जरिए हम आपको वास्तु के अनुसार घर की सजावट करने के बारे में बताएंगे।

-घर की उत्तर-पूर्वी कॉर्नर में पूजा स्थल बनाए, क्योंकि यह पवित्रता का प्रतीक होता है इसलिए यहां झाड़ू-पोंछा, कुड़ादान नहीं रखना चाहिए। वरना घर से लक्ष्मी चली जाती है। घर के मंदिर में अस्त्र-शस्त्र को रखना अशुभ होता है। संभव हो तो मंदिर छोटा सा चांदी या मिट्टी का हाथी लाकर रखें। इस सुख-समृद्धि बनी रहेगी। घर की सीढ़ियों के नीचे परिवार के किसी भी सदस्यों या देवी-देवताओं की फोटो न लगाएं।

-सुबह नाश्ते से पहले घर में झाड़ू अवश्य लगानी चाहिए और इसके बाद ही भोजन बनाना व ग्रहण करना चाहिए। शाम के वक्त में घर में झाड़ू-पोंछे का काम नहीं करना चाहिए। कहते हैं ऐसा करने से लक्ष्मी रुष्ट हो जाती हैं। घर में जूतों का स्थान प्रवेश द्वार के दाहिने ओर रखना चाहिए।

-घर के मुख्य द्वार पर शुभ चिह्न अंकित करना चाहिए। इससे सुख-समृद्धि बनी रहती है। घर के ईशान कोण पर कूड़ा-करकट भी जमा न होने दें। घर में रखे हाथियों के खिलौनों पर धूल न जमने दें और बच्चों के खिलौनें भी समय-समय पर साफ करते रहे।

Posted By: Sushma Barange