Diwali 2022: दिवाली का त्योहार जल्द ही मनाया जाने वाला है। इस बार दिवाली 24 अक्टूबर को मनाई जाएगी। इसके लिए लोगों ने हर बार की तरह अभी से साफ-सफाई शुरू कर दी है। साथ ही सभी खरीदारी में भी जुट गए हैं। दिवाली का त्योहार हमारे देश में बड़े ही धूमधाम और उल्लास के साथ मनाया जाता है। मां लक्ष्मी के आगमन से पहले सभी अपने घरों की अच्छी तरह से साफ-सफाई कर लेते हैं। लेकिन दिवाली पर घर में कुछ चीजें रखना अशुभ माना जाता है। इससे मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं। ऐसे में आवश्यक है कि दिवाली शुरू होने से पहले इन चीजों को घर से बाहर कर देना चाहिए।

जूते-चप्पल

अक्सर घरों में देखा जाता है कि लोग पुराने फटे हुए जूते चप्पल को भी घर में रखकर रखते हैं। ऐसे में जरूरी है कि दिवाली से पहले घर में पड़े जूते-चप्पलों को घर से बाहर कर देना चाहिए। साथ ही अगर जूते-चप्पल बिखरे पड़े हों तो उन्हें सही से रखना चाहिए। ऐसा नहीं करने पर घर में नेगेटिव एनर्जी आती है। और मां लक्ष्मी की कृपा नहीं मिलती।

टूटे बर्तन

घरों में टूटे बर्तन रखना वैसे भी अशुभ माना जाता है। ऐसे में स्टील, प्लास्टिक, तांबे या फिर बेकार पड़े बर्तन हो तो उन्हें घर से बाहर कर देना चाहिए। इन्हें कबाड़ में बेचा जा सकता है। टूटे बर्तनों का उपयोग करना अशुभ होता है।

खंडित मूर्ति

घर में किसी भी देवी-देवता की खंडित मूर्ति नहीं होना चाहिए। घर के पूजा स्थान पर ऐसी मूर्तियों के होने से वास्तु दोष बढ़ता है। ऐसी मूर्तियों को दिवाली शुरू होने से पहले ही जल में प्रवाहित कर दें। घर में नई मूर्तियां स्थापित करें इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

अंधेरा न होना

दिवाली के त्योहार को दीपों का पर्व कहा जाता है। इस दौरान घर में किसी भी जगह पर अंधेरा नहीं होना चाहिए। ऐसे में जिस जगह पर अंधेरा है वहां की इलेक्ट्रिक गड़बड़ी ठीक करा लें। घर में अंधेरा होने पर मां लक्ष्मी का आगमन नहीं होता है।

बंद घड़ी

रुकी हुई घड़ी किस्मत रुकने का संकेत देती है। इसे घर में रखना शुभ नहीं माना जाता। ऐसे में घड़ी को ठीक कर दोबारा लगाया जा सकता है या फिर इसे दिवाली पर हटा दें। घर में बंद घड़ी होने से मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं। साथ ही उस घर के लोगों के भी काम रुकने लगते हैं।

Dhanteras 2022: रोग और क्लेश से पाना चाहते हैं छुटकारा तो धनतेरस पर करें ये छोटा सा काम

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Shrma

  • Font Size
  • Close