Tulsi Plant: हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को काफी पवित्र माना गया है। माना जाता है कि इस पौधे में माता लक्ष्मी का वास होता है। शास्त्रों में कहा गया है कि जो लोग तुलसी के पौधे पर रोजाना जल चढ़ाते हैं और नियमित रूप से उसकी देखभाल करते हैं उन पर मां लक्ष्मी प्रसन्न होकर कृपा बरसाती हैं। इसके साथ ही यह भी बताया गया है कि तुलसी के पास कुछ चीजें कभी नहीं रखनी चाहिए। ऐसा करने से मां लक्ष्मी रूठ जाती हैं और आपको आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। आइए जानते हैं कि वे चीजें कौन सी हैं जो तुलसी के पौधे के पास कभी नहीं रखनी चाहिए और तुलसी के पौधे को किस दिशा में नहीं रखना चाहिए।

झाड़ू न रखें पास

धर्म शास्त्रों में कहा गया है कि तुलसी के पौधे के पास भूलकर भी झाड़ू नहीं रखनी चाहिए। इसकी यह वजह है कि झाड़ू का उपयोग घर की गंदगी साफ करने के लिए किया जाता है। ऐसे में तुलसी के पास कभी भी झाड़ू नहीं रखनी चाहिए। ऐसा करने से घर में दरिद्रता आने लगती है और व्यक्ति कई परेशानियों से घिर जाता है। तुलसी के पास झाड़ू रखने से तुलसी जी का अपमान होता है।

न लगाएं कांटेदार पौधा

वास्तु शास्त्र के मुताबिक तुलसी के पौधे के पास भूलकर भी कांटेदार पौधा नहीं लगाना चाहिए। अगर आप ऐसा करते हैं तो घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बढ़ने लगता है। साथ ही परिवार में कलह होने लगती है। अगर आप चाहें तो गुलाब का पौधा लगा सकते हैं। लेकिन वे भी कुछ दूरी पर ही होना चाहिए।

जूते-चप्पल रखें दूर

तुलसी एक पवित्र पौधा होता है। हमेशा उसकी पवित्रता का सम्मान करना चाहिए। हमें गलती से भी उसके आसपास जूते-चप्पल रखने का स्टैंड नहीं बनाना चाहिए। जब भी आप कहीं बाहर से आएं तो तुलसी के पौधे के पास कभी भी जूते-चप्पल नहीं उतारने चाहिए। ऐसा करना तुलसी का अनादर होता है। जिसका पाप जातक को लगता है।

न फैलाएं गंदगी

वास्तु में कहा गया है कि तुलसी के पौधे के पास हमेशा साफ-सफाई का ध्यान रखना चाहिए। उसके पास कभी भी गंदगी नहीं करनी चाहिए। रोजाना घर से निकलने वाले कूड़े को तुलसी से दूर रखना चाहिए। अगर आप इन बातों का ध्यान रखकर तुलसी की सेवा करते हैं तो आपके घर में मां लक्ष्मी हमेशा वास करेंगी।

इस दिशा में न लगाएं तुलसी पौधा

तुलसी के पौधे को कभी भी दक्षिण दिशा में नहीं लगाना चाहिए। इस दिशा को पितरों का स्थान माना जाता है। ऐसे में इस दिशा में तुलसी का पौधा लगाना अशुभ माना जाता है। दक्षिण में तुलसी का पौधा लगाने से कई मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है। तुलसी का पौधा सही दिशा में लगाने से घर में सुख और समृद्धि का वास होता है।

इस समय न तोड़ें

तुलसी माता को राधा रानी का भी रूप माना जाता है। जो कि सांयकाल में लीला करती हैं। ऐसे में शाम के समय इसकी पत्तियों को तोड़ने की मनाही होती है। विष्णु पुराण के अनुसार रविवार, एकादशी, द्वादशी, संक्रांति, सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण में भी तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ना चाहिए। तुलसी के पत्तियां 12 दिनों तक बासी नहीं मानी जाती हैं। इन पर हर रोज जल छिड़क कर पुनः भगवान को अर्पित किया जा सकता है। तुलसी का खींचकर या नाखूनों से तोड़ना भी वर्जित माना जाता है। साथ ही इसकी पत्तियों को चबाए नहीं जीभ पर रखकर चूस सकते हैं।

Sun Transit 2022: सूर्य की तरह चमकने वाला है इन 5 राशि वालों का भाग्य, 30 दिन में ही मिलेगा पैसा और प्रतिष्ठा

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Shrma

  • Font Size
  • Close