वास्तु शास्त्र कई तरह से हमारे जीवन को प्रभावित करता है। वास्तु दोष की वजह से कई बार हमारी तरक्की और परिवार की सुख-शांति छिन जाती हैं। वास्तु दोष की वजह से कई बार घर में वैभव और खान-पान की भी कमी हो जाती हैं। हालांकि, वास्तु के गलत प्रभाव से बचने के लिए वास्तु शास्त्र में कई तरह के उपाय भी दिए हैं।

वास्तु के अनुसार इंसान को जमीन पर बैठकर ही खाना खाना चाहिए। खाना खाते समय अपना मुंह उत्तर या पूर्व दिशा की ओर रखना चाहिए। वहीं, अगर आप डायनिंग टेबल पर बैठकर खाना खा रहे हैं तो पूर्व दिशा ही चुने। जबकि, घर आएं मेहमानों को दक्षिण या पश्चिम दिशा की ओर मुंह करके बिठाना चाहिए। खाना खाने से पहले भगवान को भोग लगाए। ऐसा करने से घर में अन्नपूर्णा का वास रहेगा।

अगर आप डायनिंग टेबल पर बैठकर खाना खाते हैं तो याद रहे कि इसे कभी भी खाली ना छोड़े। इसके ऊपर हमेशा फल या मिठाई रखें। अगर ये दोनों ही नहीं है तो कोई भी खाने की सामग्री अवश्य रख दें। ऐसा करने से घर में कभी भी खाने की कमी नहीं होगी। इस उपाय के साथ ही टेबल के ठीक सामने एक दर्पण लगा दें, वास्तु शास्त्र के अनुसार जब किसी स्थान के सामने दर्पण लगाया जाता है तो उस स्थान की समृद्धि बढ़ती है।

खाना खाते समय टीवी या मोबाइल का इस्तेमाल न करें। इससे अन्न का अपमान होता है। भोजन करते वक्त कोई दूसरा काम न करें। इसके अलावा घर में या डायनिंग टेबल पर ज्यादा देर तक इस्तेमाल किए हुए बर्तन नहीं रखने चाहिए। जहां तक संभव हो खाना खाने के फौरन बाद संबंधित स्थान और डायनिंग टेबल साफ कर देना चाहिए।