Astrology: हमारे समाज में जो घटनाएं घटती है उसी के बारे में यह क्यों घटित होती है इसके बारे में थोड़ा विश्लेषण करना आवश्‍यक है। जिन लोगों को हमेशा ही पुलिस विभाग से खतरा हमेशा लगा रहेगा। खास करके जब भी शनि की महादशा अंतर्दशा चल रही होगी तभी यह ज्यादा हो जाएगा क्योंकि मंगल उनका सप्तम भाव में है। पार्टनर भाव में है साझेदारी के भाव में है और मंगल के साथ केतु भी है तो मंगल और केतु दोनों विच्छेद करते हैं। दोनों ग्रह गरम माने गए हैं अब उसी के ऊपर राहु की दृष्टि पड़ गई है तो यहां अंगारक योग यहां पर बड़ा अच्छा बन रहा है। इसीलिए इनको पुलिस विभाग से ज्यादा खतरा नजर आता है। दूसरी बात यह है की इनका गुरु जो है वह नीच का है सप्तम भाव में है और उनकी दृष्टि जो है द्वादश भाव पर जा रही है। जहां पर चंद्र विराजमान है द्वादश भाव जो मीन राशि है, वहां पर जल राशि है। मीन राशि और वहीं पर फिर से चंद्र भी विराजमान है तो और ज्यादा जल का प्रभाव उसमें देखने को पड़ता है। उसी के ऊपर जब गुरु की दृष्टि जाती है तो गुरु की जो शक्तियां हैं वह दृष्टि के अनुसार गुरु की शक्ति वहां पर पूरी नष्ट होती नजर आती है क्योंकि वहां पर जल है।

इसीलिए इनका गुरु कमजोर होने के कारण लोगों को यह दिन देखने पड़ रहे हैं। दूसरी बात यह है कि उनके निजी जीवन के बारे में बात करते हैं तो इनके भाव में यानी की दशम भाव में शुक्र और सूर्य है। यह भी एक ग्रहण दोष बना देते हैं तो शुक्र और सूर्य शुक्र है वह सीधे चतुर्थ भाव पर दृष्टि देखते हैं तो चतुर्थ भाव में दृष्टि देखने के बाद जब भी जिसका भी सूर्य चतुर्थ भाव में दृष्टि से देखता है उसके दो शादियां होती हैं। चतुर्थ भाव का शुक्र किस तरह से द्वितीय शादी होने के बाद फल देता है। अंगारक योग मंगल और केतु का एक साथ योग बनता है और तीसरी बात यह है कि जिनका गुरु कमजोर हो चुका है।

कुंडली के इस दोष के चलते अचानक सा फल भुगतना पड़ता है। कोई भी घटना हो हमारे जीवन से कुंडली के अनुसार ही घटित होती है और हम अपने जब ऊंचाई पर रहते हैं, तभी हम कभी अपनी कुंडली पर ध्यान नहीं देते। ग्रहों पर ध्यान नहीं देते हैं। पैसा आने के बाद हर इंसान यह सब बातें धर्म-कर्म यह सब भूल जाता है और इसी के अनुसार कर्म फल के अनुसार यह फल प्राप्त होता है। गुरु कमजोर होने के कारण जितना भी नाम होता है, व्यवसाय किया है वह पूरा नाम खराब हो जाता है। यह गुरु का एक वास्तविक अध्ययन है।

शनि ढैया खत्‍म होने तक यह करना चाहिये

तुला राशि वालों को शनि की ढैया खत्म होने तक खत्म होने तक शांति से रहना चाहिए। हम सब अपने अपने जीवन निजी जीवन में व्यस्त रहते हैं लेकिन मैं एक जिज्ञासु ज्योतिष के अनुसार मैं यह देखता हूं समाज में यह अचानक किसी के साथ भी यह ऐसी घटना बुरी घटना उसके जीवन में कैसे आती है और क्यों आती है। इसके मुख्य स्‍त्रोत के पास जाने की कोशिश करता रहता हूं। आपको भी पता चले कि कौन से योग से कोई इंसान कैसे फल प्राप्त कर रहा है। कैसे भोगता जाता है। सप्तम भाव में मंगल पूर्ण रूप से मांगलिक कुंडली है। यह जब मंगल प्रथम भाव में देखता है तभी वह वही भी मांगलिक हो जाते हैं। इसलिए सप्तम भाव का मंगल शादी ने विच्छेद करता है। साझेदारी में विच्छेद करता है, क्योंकि कि तू भी वहां पर विराजमान है। मंगल और केतु किसी भी काम में विच्छेद करते हैं कि तू को मंगल की पावर मिलने के बाद शक्ति मिलने के बाद इस तरह के घटनाएं किसी की भी जीवन में घटित होती हैं।

(यह आलेख हस्‍तरेखातज्ञ एवं ज्‍योतिष पंडित विनोद जी द्वारा लिखा गया है)

Posted By: Navodit Saktawat