Ganesh Chatirthi 2021: भाद्रपद महीने के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को गणेश चतुर्थी मनाई जाती है। इस दिन गणेश स्‍थापना की जाती है और अगले 10 दिनों तक भगवान अपने भक्‍तों के साथ रहते हैं। इस साल गणेश उत्सव की शुरुआत 10 सितंबर से हो रही है। गणेश उत्सव के दौरान भक्‍त अपने भगवान को प्रसन्‍न करने के लिए कई काम करते हैं। भगवान की विशेष पूजा-अर्चना करते हैं और उन्‍हें तरह-तरह के भोग लगाते हैं। गणपति बप्पा को कुछ चीजें बहुत पसंद हैं और उनका भोग लगाने से बहुत जल्दी फल मिलता है। यहां हम इन्हीं चीजों के बारे में बता रहे हैं, जिनका भोग लगाने से गणपति बप्पा मनोवांछित फल देते हैं।

मोदक

मोदक एक विशेष प्रकार का मिष्ठान्न है। इसका भोग श्रीगणेश को लगाने से वह बहुत जल्दी प्रसन्न होते हैं और भक्तों की सभी मनोकामना पूरी करते हैं। गणेश चतुर्थी पर मोदक चढ़ाने से गणपति बप्पा भक्त की मनचाही मुराद पूरी करते हैं। मान्यता है कि मोदक चढ़ाने से कर्ज से मुक्ति मिलती है और घर में समृद्धि आती है।

बूंदी के लड्डू

मोदक की ही तरह बूंदी के लड्डू भी भगवान गणेश को अतिप्रिय है। बूंदी के लड्डू का भोग लगाने से गणेशजी भक्तों को धन-समृद्धि का वरदान देते हैं। मनचाही इच्छा पूरी करने के लिए 5,11,21,51 या इससे ज्यादा संख्या में भगवान गणेश को लड्डूओं का भोग लगाया जाता है। इसके अलावा बेसन के लड्डू, मोतीचूर के लड्डू, गुड़ और नारियल से बनी चीजें उन्हें प्रसाद या भोग में चढ़ाई जाती हैं।

हरी दूर्वा

हरी दूर्वा घास श्रीगणेश को अति प्रिय है। मान्यता है कि हरी दुर्वा घास उनको शीतलता प्रदान करती है। इसलिए गणेशजी को हरी दुर्वा घास अर्पित करते हैं। 11, 21 या इससे ज्यादा दुर्वा चढ़ाने का शास्त्रों में विधान है। दुर्वा में कम से कम तीन या पांच पत्तियां होना चाहिए। दुर्वा गणेशजी के मस्तक पर रखें, उनके चरणों में समर्पित ना करें। दुर्वा अर्पित करते हुए यह मंत्र बोलें

।। इदं दुर्वादलं ऊं गं गणपतये नमः।।

सिंदूर

सिंदूर गणेश जी को बहुत पसंद है। गणेश जी को प्रसन्न करने के लिए उनको सिंदूर का तिलक लगाएं। गणेश जी को तिलक लगाने के बाद अपने मस्तक पर भी सिंदूर का तिलक लगाएं। इससे गणेश जी की कृपा प्राप्त होती है।

लाल फूल

श्रीगणेश को लाल फूल प्रिय है। इसलिए गणपतिजी की आराधना में उनको लाल फूल समर्पित करने का विधान है। मान्यता है कि श्रीगणेश को लाल फूल चढ़ाने से वो शीघ्र प्रसन्न होते हैं और भक्तों की सभी मनोकामना पूर्ण करते हैं।

शमी के पत्ते

शमी को शनि देव का पौधा माना जाता है। लेकिन शमीपत्र शनि महाराज और गणेशजी दोनों को प्रिय है। इसलिए श्रीगणेश पूजा में शमीपत्र समर्पित करने से घर में धन एवं सुख की वृद्धि होती है।

घी और गुड़

घी और गुड़ श्रीगणेश को प्रिय है इसलिए श्री गजानन की पूजा में घी और गुड़ का भोग लगाया जाता है। श्रीगणेश को भोग लगाने के बाद गुड़ और घी को गाय को खिला दे। मान्यता है कि इस उपाय को करने से धन संबंधी समस्या से मुक्ति मिलती है ।

श्रीफल

फलों में श्रीफल गणेशजी को प्रिय है। इसलिए श्रीगणेशजी की आराधना मे श्रीफल समर्पित किया जाता है।

Posted By: Shailendra Kumar