Good Luck Remedy: मेरी तो किस्मत खराब है। अक्सर अपने लोगों को ऐसा कहते हुए सुना होगा। कई लोग ऐसे होते हैं जो बहुत सामान्य तरीके से जीवन व्यतीत करते हैं। किसी प्रकार का बुरा कर्म नहीं करते। बहुत परिश्रम करते हैं। लेकिन भाग्य उनका साथ नहीं देता है। हिन्दू धर्म में ऐसे कई उपाय का वर्णन है जिन्हें करने से पल भर में आपका दुर्भाग्य दूर हो जाएगा। हम आपको ऐसा ही एक उपाय बताएंगे। यह उपाय सुबह-सुबह नींद खुलते ही करना है, वह भी बिस्तर पर बैठे-बैठे ही।

आप जैसे ही सोकर सुबह उठें तो बिस्तर से नीचे उतरने से पहले ही अपने दायें हाथ से यदि लिखते समय दायें हाथ का प्रयोग करते हैं तो, अन्यथा बायें हाथ उपयोग कर सकते हैं अपने बाएं हाथ पर अपना इष्ट मंत्र या गुरु का नाम लिखें। जैसे आप कृष्ण जी को अपने इष्ट देवता मानते हैं तो श्रीकृष्ण का बीज मंत्र अपने हाथ पर लिखें, यदि शिव जी को मानते हैं तो उनका मंत्र लिखें, इसी तरह जिस भी देवता को आप अपना इष्ट मानते हैं या उनका प्रतिदिन ध्यान करते हैं उनका मंत्र या नाम भी अपने हाथ पर लिख सकतें हैं। आपको ऐसा करते समय किसी पेन या पेंसिल का उपयोग नहीं करना है। अपने हाथ की अंगुलियों से ही मात्र प्रतीकात्मक तरीके से अपने दूसरे हाथ पर मंत्र को लिखना है।

अब आगे हम बताने जा रहे हैं कि इस उपाय को क्यों किया जाता है और इसके पीछे का कारण क्या है? पुराणिक मत के अनुसार हम अपने हाथों की रेखाओं में ही अपने भाग्य को पाते हैं। ये रेखायें हमारा भाग्य का लेखा-जोखा होती हैं, आप क्या पाएंगे और क्या गवा देंगे ये सब इन्हीं रेखाओं में होता है। इसलिए सुबह-सुबह के पवित्र समय में भगवान का नाम यदि इन रेखाओं पर उस परमेश्वर का नाम लिख दिया जाएगा तो स्वयं आपके भाग्य का भाग ईश्वर बन जाएंगे। आपके जीवन के आने वाले संकट अवश्य ही दूर हो जायेंगे। इस काम को करते समय हृदय में ईश्वर से प्रार्थना अवश्य करें, ऐसा करने से आपको सुबह-सुबह इच्छाशक्ति प्राप्त होगी और पूरा दिन अच्छा जाएगा।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close