धार्मिक मान्यता के मुताबिक गुरुवार को विष्णु भगवान का दिन माना जाता है। भगवान विष्णु को जगत का पालन हार भी कहा जाता है। इस दिन श्रीहरि नारायण की विशेष रूप से पूजा-अर्चना की जाती है। श्री हरि विष्णु के आशीर्वाद से सभी तरह के संकटों से मुक्ति मिल जाती है। यदि आपका भाग्य साथ नहीं दे रहा है, तो गुरुवार के दिन कुछ आसान उपाय करने से आपकी किस्मत बदल सकती है। आइये जानते हैं कुंडली में बृहस्पति को मजबूत करने के लिए गुरुवार को किए जाने वाले उपाय।

गुरुवार को करें ये आसान काम

1.गुरुवार को ब्रह्म मुहूर्त में स्नान के समय ‘ॐ बृ बृहस्पते नमः’ या “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” मंत्र का जाप भी करें।

2.गुरुवार को नहाने के पानी में चुटकी भर हल्दी डालकर स्नान करें।

3.गुरुवार का व्रत रखें एवं विधि-विधान द्वारा बृहस्पति देव का पूजन करें।

4.यदि विवाह में देरी हो रही हैं, तो गुरुवार के दिन केले के पौध पर जल अर्पित करें।

5.गुरुवार को स्नान के बाद पीले वस्त्र धारण कर भगवान विष्णु का पूजन करें।

6.भगवान विष्णु को पीले रंग के फूलों के साथ तुलसी का एक छोटा सा पत्ता अर्पित करें।

7.गुरुवार को अपने माथे पर हल्दी, चंदन या केसर का तिलक धारण करें।

8.भगवान बृहस्पति को पीले रंग की चीजें बहुत पसंद हैं। इसलिए गुरुवार को ब्राह्मणों को पीले रंग की वस्तुएं जैसे- चने की दाल, फल आदि दान करें।

9.इस दिन सुबह के समय चने की दाल और थोड़ा-सा गुड़ को घर के मुख्य द्वार पर रखें।

10.गुरुवार के दिन न तो किसी को उधार दें और न हीं किसी से उधार लें। यदि आप ऐसा करते हैं तो आपकी कुंडली में गुरु की स्थिति खराब हो सकती है और आपको आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है।

गुरुवार को इन मंत्रों का करें जाप

ॐ बृं बृहस्पतये नम:

ॐ क्लीं बृहस्पतये नम:

ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:

ॐ ऐं श्रीं बृहस्पतये नम:

ॐ गुं गुरवे नम:

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close