Jeera Ke Upay: ज्योतिष शास्त्र में ऐसे कई तरह के उपाय बताए गए हैं जिनका इस्तेमाल करने से ग्रहों को शांत और मजबूत किया जा सकता है। जीरा ना सिर्फ सेहत के लिए अच्छा रहता है बल्कि इससे जुड़ ज्योतिष उपाय भी सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं। साथ ही इसके उपाय करने से घर सुख-समृद्धि से भरा रहता है। घर के सदस्यों की सेहत भी अच्छी रहती है। वहीं कई जगहों पर ससुराल जाते समय बेटियों को पोटली में जीरा के दाने देकर विदा किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि इससे बेटी को ससुराल में कभी भी धन-धान्य की कमी नहीं होती है। आइए जानते हैं जीरा के कुछ ऐसे टोटके जिसके इस्तेमाल से कार्य में आ रही बाधा को दूर किया जा सकता है।

जीरा के चमत्कारी टोटके

- शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी की तस्वीर या मूर्ति के सामने लाल वस्त्र बिछाएं। अब इस पर एक मुट्ठी जीरा रखकर कुछ सिक्के रखें। माता लक्ष्मी की पूजा के बाद जीरे और पैसे को लपेटकर इस जगह पर रख दें जहां आप अपना धन रखते हैं। माना जाता है कि इससे घर में देवी लक्ष्मी की कृपा रहती है। खासतौर से दिवाली की रात धन वृद्धि के लिए देवी लक्ष्मी को जीरा अर्पित करना बहुत शुभ माना जाता है।

- बार-बार कोशिश करने के बाद भी अगर आपके हाथ में पैसा नहीं टिकता है तो जीरा का ये टोटका आपके लिए काफी फायदेमंद है। शुक्रवार के दिन एक कपड़े में थोड़ा सा जीरा बांधकर मंदिर में माता लक्ष्मी को चढ़ाकर आ जाएं। ऐसा करने से आर्थिक स्थिति मजबूत होने लगती है। इस उपाय को करने से हर क्षेत्र में कामयाबी मिलती है। साथ ही रुके हुए काम भी पूरे होने लगते हैं।

- अगर आसपास नकारात्मक शक्तियां परेशान करती हैं या फिर आपको नजर लग गई है तो जीरे के कुछ दाने लेकर अपने ऊपर से सात बार घुमाकर अग्नि में डाल दें। ऐसा करने से नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होती है। साथ ही आसपास सकारात्मक ऊर्जा का वास होता है।

Guru Margi 2022: बृहस्पति मार्गी होकर बनाने जा रहे हैं पंच महापुरुष राजयोग, इन 3 राशि वालों की चमकेगी किस्मत

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Shrma

  • Font Size
  • Close