Mercury Transit 2021: मई महीने की शुरुआत में ही बुध का राशि परिवर्तन होने जा रहा है। बुध ग्रह का गोचर वृष राशि में होगा। बुध ग्रह को एक शुभ ग्रह माना गया है। उसे सभी 9 ग्रहों में राजकुमार की उपाधि प्रदान की गई है। हालांकि, इस राशि परिवर्तन से एक अशुभ योग बन रहा है। इससे मेष से लेकर मीन राशि तक के लोग प्रभावित होंगे। 1 मई 2021 को सुबह 5 बजकर 32 मिनट पर बुध ग्रह वृषभ राशि में प्रवेश करेगा। इसके बाद 26 मई 2021 तक वृष राशि में बुध का गोचर रहेगा। इसके बाद 26 मई को सुबह 7 बजकर 50 मिनट के बाद बुध ग्रह राशि बदलकर मिथुन राशि में प्रवेश करेगा।

मिथुन और कन्या राशि के स्वामी हैं बुध

ज्योतिष शास्त्र में बुध ग्रह को वाणी, व्यापार, कम्युनिकेशन, बुद्धि, गणना, तर्क शास्त्र आदि का कारक माना गया है। मिथुन और कन्या राशि के स्वामी बुध हैं। कन्या बुध की उच्च और मीन बुध की नीच राशि है।

बुध के राशि परिवर्तन का क्या होगा असर

वृष राशि में पहले से ही पाप ग्रह राहु विराजमान हैं। इसके बाद इसमें बुध का प्रवेश होने से जड़त्व योग बन रहा है। इस योग ज्योतिष शास्त्र में शुभ नहीं माना जाता है। यह योग कुंडली के अलग अलग भाव के अनुसार फल देता है। वृष राशि में इस योग के बनने से इस राशि के लोगों को धन संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। ज्योतिष शास्त्र में राहु को कूटनीति, राजनीति, धोखा, प्रपंच, भ्रम, विदेशी भाषा, विदेश और मानसिक रोग आदि का भी कारक माना गया है।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags