Money Astrology: आम व्यक्ति के जीवन में उधार लेन-देन होना बेहद सामान्य बात है। आपातकाल समय पर एक-दूसरे की सहायता के लिए भी पैसों का आदान-प्रदान किया जाता है। कई बार ऐसा देखा जाता है कि उधार दिया हुआ धन समय पर वापस नहीं मिलता है। ऐसी स्थिति में आप संबंधित व्यक्ति से बार-बार संपर्क भी करते हैं। लेकिन आपको पैसा नहीं मिलता है। आज हम आपको कुछ आसान उपाय बताने जा रहे हैं जिन्हें अपनाने से आपका अटका हुआ पैसा आपको वापस मिल जाएगा।

अटका हुआ धन प्राप्त करने के उपाय

पहला उपाय

शनिवार को दक्षिण मुखी हनुमान जी की प्रतिमा के आगे सरसों के तेल का दीपक जलाएं। दीपक पर सरसों के कुछ दाने, 2 लौंग और एक कपूर डालें। तीन बार बजरंग बाण का पाठ करें। हनुमान जी से अटके हुये धन को प्राप्ति के लिए प्रार्थना करें। दीपक में से 2 चम्मच तेल निकालें और उसका काजल बनाएं। अब किसी कोमल वस्त्र पर उस व्यक्ति का नाम लिखें जिसको आपने धन दिया है। अब इस कपड़े की बाती बनाएं। अब आटे के दीपक में तिल का तेल डाल कर इस बत्ती को पुनः हनुमान जी के सामने जलाएं। अब फिर से 5 बार बजरंग बाण का पाठ करें। अटका हुआ धन आपको मिल जाएगा।

दूसरा उपाय

दो राजा कौड़ी उस व्यक्ति के घर के सामने डाल दें जिसको आपने धन उधार दिया है। इस टोटके से वह आपको आपके पैसे वापस कर देगा। यह अटका हुआ धन पाने का बहुत आसान उपाय है।

तीसरा उपाय

ऐसा माना जाता है कि पीली कौड़ी माँ लक्ष्मी जी का प्रतिनिधित्व करती है। इसलिए 5 पीली कौड़ी पूजा के स्थान पर रख दें। इससे आपका फंसा हुआ धन वापस आने लगेगा।

चौथा उपाय

शुक्रवार के दिन कपूर जलाकर उसका काजल बना लें। अब एक भोज पत्र पर उस व्यक्ति का नाम लिखें जिसको आपने धन दिया है। अब इस भोजपत्र पर सात बार थपकी देकर इसे अपनी तिजोरी में दबाकर रख लें। इस उपाय से आपका रुका हुआ धन वापस आने लगेगा।

पांचवा उपाय

11 लौंग, 11 साबुत नमक की डली को नीले कपड़े में बांध दें और उस व्यक्ति का ध्यान करते हुए रात्रि 10 बजे के आस-पास किसी चौराहे पर जाकर चुपचाप इसे रख कर आ जाए। ऐसा करने से उधार दिया हुआ धन वापस मिलने लगेगा। यह अटका हुआ धन प्राप्ति का सरल उपाय है।

छठवां उपाय

मंगल एवं बुधवार को उधारी का लेनदेन न करें। शास्त्रों में ऐसा कहा जाता है कि मंगलवार को कभी क़र्ज़ नहीं लेना चाहिए। इस दिन क़र्ज़ लेने वाला व्यक्ति सदा क़र्ज़ के बोझ तले दबा रहता है। वहीं बुधवार के दिन कभी उधार नहीं देना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इस दिन दी गई उधारी के वापस आने के योग कम होते हैं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close