Shani Jayanti 2022: शनि जयंती इस साल 30 मई, सोमवार को मनाई जाएगी। शनिदेव का जन्म ज्येष्ठ महीने की अमावस्या को हुआ था। इस बार शनि जयंती के दिन सोमवती अमावस्या भी रहेगी। इस खास मौके पर कर्मफलदाता को प्रसन्न करने के कुछ उपाय जरूर करें। यह उपाय शनि दोष, साढ़े साती और ढैय्या से राहत दिलाते हैं। ऐसे में जिन जातकों पर शनि की महादशा चल रही है। उन्हें शनि जयंती के दिन यह उपाय करने चाहिए।

शनि जयंती के दिन करें ये उपाय

इस वर्ष शनि जयंती पर विशेष संयोग बन रहा है। 30 साल बाद शनिदेव अपनी ही राशि कुंभ में हैं। ऐसे में उन्हें प्रसन्न करने के उपाय कई गुना फल देंगे।

1. शनि जयंती के दिन ऊं शं शनैश्चराय नमः मंत्र का जाप करें। शनि चालीसा का पाठ करना भी शुभ है।

2. शनि जयंती के दिन मंदिर जाकर शनि देव को तेल, काली तिल, नीले फूल और उड़द अर्पित करें।

3. शनि देव कर्मों के अनुसार फल देते हैं। अगर आप गरीब, बुजुर्गों, महिलाओं की सहायता करेंगे, तो शनिदेव प्रसन्न होंगे। आप अपनी सामर्थ्य के अनुसार पैसे, काले कपड़े, तेल, भोजन, तिल, उड़द, मिठाई आदि दान कर सकते हैं।

4. शनि जयंती के दिन छाया दान करने से कष्टों से राहत मिलती है। इसके लिए कांसे के कटोरे में तेल लें। उसमें अपना चेहरा देखें। फिर कटोरे समेत तेल का दान करें। या शनि मंदिर में रख आएं। अगर कांसे का कटोरा न हो तो स्टील का कटोरा भी ले सकते हैं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close