Shani-Guru change House: ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। नया साल का पहला महीना जनवरी शुरू चुका है। और इस नए वर्ष में कई ग्रहों का राशि परिवर्तन भी होने वाला है। जिसका प्रभाव देश दुनिया के साथ सभी 12 राशियों के जातकों के जीवन पर भी पड़ेगा। साल 2023 में शनि, गुरु और राहु, केतु जैसे प्रभावशाली ग्रह का राशि परिवर्तन देखने को मिलेगा। इन प्रभावशाली ग्रहों में से सबसे धीमी गति से चलने वाले शनि ग्रह माने जाते हैं। इन्हें एक राशि से दूसरी राशि में स्थान परिवर्तन करने में लगभग ढाई वर्ष का समय लगता है।

बालाजी धाम काली माता मंदिर के ज्योतिषाचार्य डॉं सतीश सोनी के अनुसार 2023 के शुरूआत मे शनि का राशि परिवर्तन होगा। शनि का राशि परिवर्तन 17 जनवरी को लगभग शाम 6:00 बजे होगा। शनि देव ढाई साल के लिए अपना घर बदलकर मकर राशि से कुंभ राशि में प्रवेश कर जाएंगे। शनि पूरे 2 माह तक सूर्य की युति में रहेंगे। यानी कि शनि और सूर्य की युति 2 माह तक बनेगी। शनि के मकर राशि की यात्रा के बाद कुंभ में प्रवेश से धनु राशि साढ़ेसाती मुक्त होगी। तथा मिथुन और तुला राशि का ढैया समाप्त होगा । ऐसा होते ही कुछ लोग चिंता मुक्त होंगे। लेकिन किसी की चिंता बढ़ेगी। इसके साथ ही मकर, कुंभ ,मीन पर शनि का साढ़ेसाती जारी रहेगा तथा कर्क राशि, वृश्चिक राशि पर शनि की ढैया का प्रभाव देखने को मिलेगा। इसके साथ ही 22 अप्रैल को गुरु अपनी मीन राशि की यात्रा को समाप्त कर मेष राशि में प्रवेश कर जाएंगे। यहां मेष राशि में पहले से ही मौजूद राहु देव के साथ इनकी युति होगी। जिससे 22 अप्रैल से लेकर 30 अक्टूबर तक गुरु चांडाल योग ब्रह्मांड में निष्पादित होगा। इन 6 माह के अंतराल में देश में बेहद आश्चर्यजनक प्राकृतिक आपदाएं देखने को मिल सकती हैं। जैसे भूकंप, सुनामी, रेल, विमान दुर्घटनाएं ,राजनीतिक संकट, पुनः किसान आंदोलन का प्रारंभ होना। आदि खास बात यह रहेगी। 2023 देश को डरायेगा।बहुत किंतु सताएगा कम यानी कहा जा सकता है। कि देश में कोरोना का डर तो रहेगा। परंतु उसका प्रभाव नहीं होगा। यह सब 30 अक्टूबर तक घटित होगा। उसके बाद जब राहु मेष राशि से निकलकर मीन राशि में पहुंचेंगे तथा केतु कन्या राशि में पहुंचेंगे तो राहत मिलती देखेगी।

Posted By: anil tomar

  • Font Size
  • Close