Sindoor Ke Totke: हिंदू धर्म में सिंदूर को शुभता और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है। सिंदूर का उपयोग पूजा पाठ में किया जाता है। साथ ही इसे सुहागिन महिलाएं अपने सुहाग की लंबी उम्र के लिए अपनी मांग में हमेशा लगाए रहती हैं। सिंदूर के बिना संकटमोचक हनुमान जी ऋद्धि सिद्धि के दाता और प्रथम पूज्य भगवान श्री गणेश जी और सभी कष्टों को दूर करने वाली देवी माता दुर्गा जी की पूजा अधूरी मानी जाती है। सिंदूर के कुछ उपाय करने से भगवान हनुमान जी अत्यंत प्रसन्न हो जाते हैं। साथ ही वे अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। आइए जानते हैं कि वे उपाय कौन से हैं।

- चमेली के तेल में सिंदूर मिलाकर हनुमान जी को अर्पित करें और उन्हें लगाएं। यह उपाय शनिवार के दिन करें। माना जाता है कि ऐसा करने से सारी परेशानियां दूर हो जाती हैं।

- प्रतिदिन की पूजा के बाद पूजा का सिंदूर लेकर घर के मुख्य द्वार पर लगाएं। इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है और घर में वास करती हैं। इससे घर में धन दौलत की कमी नहीं होती है।

- बुधवार के दिन पान के पत्ते में सिंदूर और फिटकरी बांधकर पीपल के पेड़ के नीचे दबा दें। यह अचूक उपाय कम से कम 3 बुधवार करें। माना जाता है कि इससे मान-सम्मान में वृद्धि होती है।

- यदि आपको किसी काम में असफलता मिल रही है तो किसी नदी में बहते हुए पानी में एक चुटकी सिंदूर प्रवाहित कर दें। इससे सूर्य और मंगल दोनों की अति कृपा होगी और आपके सारे काम बन जाएंगे।

- मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा के बाद उन्हें चढ़ाया सिंदूर लेकर तेल में मिलाकर मुख्य दरवाजे पर लगाएं। इससे घर में कभी भी नकारात्मकता नहीं आएगी।

- अगर आपको नौकरी नहीं मिल रही है तो सिंदूर में केसर मिलाकर पीले वस्त्र पर अपनी अनामिका अंगुली से 63 नंबर लिखें और यह वस्त्र माता लक्ष्मी के चरणों में अर्पित करें। यह काम केवल गुरुवार के दिन और कम से कम नौ से ग्यारह गुरुवार करें। जरूर लाभ मिलेगा।

Shardiya Navratri 2022: 26 सितंबर से शुरु हो रही है शारदीय नवरात्रि, शुक्ल व ब्रह्म योग के अद्भुत संयोग में होगा देवी मां का आगमन

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Shrma

  • Font Size
  • Close