Surya Grahan 2021: साल 2021 का पहला सूर्य ग्रहण आज 10 जून को लग रहा है। यह ग्रहण दोपहर 1 बजकर 42 मिनट से शाम 6 बजकर 41 मिनट तक रहेगा। हिन्दू पंचांग के अनुसार इस दिन जेष्ठ मास की अमावस्या तिथि, वट सावित्री, रोहिणी व्रत तथा शनि जयंति का त्योहार भी पड़ रहा है। धार्मिक मान्यता के अनुसार आमतौर पर सूर्य ग्रहण के दिन कोई भी शुभ कार्य नहीं किये जाते, यहां तक की मंदिरों के कपाट भी बंद कर दिये जाते हैं। 10 जून को पड़ने वाला सूर्य ग्रहण आशिंक सूर्य ग्रहण है। भारत में इसका प्रभाव भी आंशिक ही है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इस सूर्य ग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं होगा, अतः निषिद्ध कार्यों पर प्रतिबंध करने की आवश्यकता नहीं है।

धार्मिक मान्यताओं के अलावा वैज्ञानिकों का भी मानना है कि सूर्य ग्रहण के शरीर पर कई तरह के प्रभाव पड़ते हैं। अतः हमें इस काल में कुछ तरह की सावधानियां बरतनी चाहिए। यहां हम धार्मिक मान्यता के आधार पर जानेंगे कि सूर्य ग्रहण के दौरान हमें किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

सूर्य ग्रहण के दौरान क्या न करें

1- सूर्य ग्रहण के दौरान किसी भी प्रकार के शुभ कार्य करना वर्जित है।

2- इस समयावधि में भोजन बनाना या खाना भी नहीं चाहिए।

3- गर्भवती महिलाओं को ऐसे समय में बाहर नहीं आना चाहिए।

4- सूर्य ग्रहण के दौरान सोना नहीं चाहिए, इससे व्यक्ति रोगी हो जाता है।

5- ग्रहण काल में फूल, पत्ती नहीं तोड़ना चाहिए।

सूर्य ग्रहण के दौरान क्या करें

1- ग्रहण के काल में विशेष रूप से अपने ईष्ट देवता का ध्यान और उनके मंत्र का जप करना सर्वश्रेष्ठ है।

2- ग्रहण समाप्त होने के बाद स्नान करना आवश्यक है।

3- ग्रहण के पहले बने भोजन व रखे पानी को हटा कर नया भोजन बना कर ही खाना चाहिए।

4- ग्रहण के बाद अन्न का दान करना पुण्य प्रदान करता है।

5- ग्रहण समाप्ति के बाद गाय को घास, पक्षियों को दाना तथा गरीबों को वस्त्र का दान करना शुभ फलदायक होता है।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags