Aghan 2022 Vrat Tyohar: मार्गशीर्ष महीने को अगहन कहा जाता है। फिलहाल अगहन का शुक्ल पक्ष चल रहा है। मान्यताओं के अनुसार, यह महीना श्रीहरि को प्रिय है। ऐसे में इस माह में भगवान विष्णु की पूजा अत्यंत शुभ और फलदायी मानी गई है। पंचांग के अनुसार अगहन शुक्ल पक्ष में कई व्रत और त्योहार आने वाले हैं। इस पक्ष के प्रमुख त्योहारों में विवाह पंचमी, चंपा षष्टी, नंदा सप्तमी और मोक्षदा एकादशी हैं। आइए जानते हैं अगहन मास के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाले प्रमुख व्रत और त्योहारों के बारे में।

विनायक चतुर्थी (27 नवंबर 2022) विनायक चतुर्थी के दिन भगवान गणेश की पूजा-अर्चना का विधान है। इस व्रत को रखने से गणपति की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

विवाह पंचमी (28 नवंबर 2022) मान्यता है कि इस दिन श्रीराम और माता सीता का विवाह हुआ था। इसलिए इस दिन का विशेष महत्व है। हालांकि इस दिन शादी करना शुभ नहीं माना गया है।

चंपा षष्ठी (29 नवंबर 2022) चंपा षष्ठी के दिन भगवान कार्तिकेय और महादेव के खंडोबा स्वरूप की पूजा की जाती है।

नंदा सप्तमी (30 नवंबर 2022) यह व्रत मुख्य रूप से सूर्य देव, गणेश और नंदा देवी को समर्पित है। नंदा देवी को माता पार्वती का स्वरूप माना गया है। इस व्रत से सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

मोक्षदा एकादशी, गीता जयंती (3 दिसंबर 2022) मोक्षदा एकादशी को मोक्ष प्राप्त करने वाला माना गया है। इस व्रत को रखने से श्रीहरि की कृपा से मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस वर्ष इसी दिन गीता जयंती भी है।

सोम प्रदोष व्रत (5 दिसंबर 2022) धार्मिक मान्यता के अनुसार यह दिन भगवान शिवजी, माता पार्वती, कामदेव और रति की पूजा की जाती है। इस व्रत को रखने से वैवाहिक जीवन की परेशानियां दूर होती हैं।

मार्गशीर्ष पूर्णिमा, दत्तात्रेय जयंती (8 दिसंबर 2022) पूर्णिमा तिथि पर लक्ष्मी-नारायण की पूजा करने से सुख और सौभाग्य में वृद्धि होती है। इस दिन भगवान विष्णु के अंश भगवान दत्ताकत्रेय का जन्मोत्सव है।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह सें उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Kushagra Valuskar

  • Font Size
  • Close