Basant Panchami 2023 Bhog: माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को बसंत पंचमी का पर्व मनाया जा रहा है। इस दिन ज्ञान, संगीत और कला की देवी मां सरस्वती की विधिवत पूजा करने का विधान है। माना जाता है कि इस दिन मां सरस्वती प्रकट हुई थीं। इस साल बसंत पंचमी का पर्व 26 जनवरी को मनाई जा रही है। बसंत पंचमी को श्री पंचमी के नाम से भी जानते हैं। बसंत पंचमी के दिन अक्षर अभ्यास, विद्या आरंभ आदि संस्कार किए जाते हैं। इस दिन मां सरस्वती की विधिवत पूजा करने के साथ कुछ खास चीजों का भोग लगा सकते हैं। इससे मां सरस्वती प्रसन्न होकर सुख-समृद्धि का आशीर्वाद देती हैं।

राजभोग

मां सरस्वती की पूजा में पीली ही वस्तुओं का इस्तेमाल करना शुभ माना जाता है। ऐसे में आप चाहे, तो मां सरस्वती को राजभोग का भोग लगा सकते हैं। इससे मां जल्द प्रसन्न हो जाएगी।

बूंदी

माना जाता है कि मां सरस्वती को बूंदी अतिप्रिय है। इसलिए बसंत पंचमी के मां सरस्वती को पीली बूंदी का भोग लगा सकते हैं। आप चाहे तो बूंदी के लड्डू भी अर्पित कर सकते हैं।

बेसन के लड्डू

मां सरस्वती को बेसन के लड्डू भी अति प्रिय है। इस मिठाई को भावना का प्रतीक माना जाता है। इसलिए बेसन के लड्डू चढ़ाने से मां जल्द प्रसन्न हो जाएगी।

पीले मीठे चावल

बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती को पीले मीठे चावल का भोग लगाने की भी परंपरा है। इन्हें मीठे केसरी भात भी कहा जाता है। इन्हें मां को भोग लगाने वह अति प्रसन्न होती है।

केसर हलवा

मां सरस्वती की पूजा में केसर हलवा चढ़ाया जाता है। इसे पारंपरिक भोग माना जाता है। मान्यता है कि मां सरस्वती को केसर हलवा का भोग लगाने से सारे कष्टों से छुटकारा मिल जाता है।

Budh Gochar: फरवरी के पहले सप्ताह में होगा बुध गोचर, इन राशियों के जाग जाएंगे भाग्य

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Sharma

  • Font Size
  • Close