Chaitra Navratri 2020 : चैत्र नवरात्रि के दौरान देवी दुर्गा के नौ स्वरूपों की उपासना की जाती है। इस बार यह 25 मार्च से लेकर 03 मार्च तक चलने वाली है। अष्टमी और नवमी क्रमशः 01 और 20 अप्रैल को है। चैत्र नवरात्रि के लिए घाट स्थापना 25 मार्च को होगी। इसके लिए शुभ मुहूर्त सुबह 06 बजकर 23 मिनट से लेकर 07 बजकर 17 मिनट तक है। हिंदी पंचांग के मुताबिक भारतीय नववर्ष की शुरू भी चैत्र प्रतिपदा से होती है। इसके अलावा चैत्र महीने में ही नवसंवत्सर की भी शुरुआत होती है।

25, मार्च 2020 (बुधवार)- शैलपुत्री माता की पूजा

-26, मार्च 2020 (गुरुवार)- ब्रह्मचारिणी माता की पूजा

27, मार्च 2020 (शुक्रवार)- चंद्रघंटा माता की पूजा

28, मार्च 2020 (शनिवार)- कुष्मांडा माता की पूजा

29, मार्च 2020 (रविवार)- स्कंदमाता की पूजा

30, मार्च 2020 (सोमवार)- कात्यायनी माता की पूजा

31, मार्च 2020 (मंगलवार)- कालरात्रि माता की पूजा

1, अप्रैल 2020 (बुधवार)- महागौरी माता की पूजा

2, अप्रैल 2020 (गुरुवार)- सिद्धिदात्री माता की पूजा

शुभ योग: नवरात्र के शुरुआती दिन को बहुत शुभ माना जाता है। इस बार चैत्र नवरात्र में चार सर्वाथसिद्धि योग, एक अमृतसिद्धि योग और एक रवियोग बन रहा है। इस तरह से चैत्र नवरात्र में 6 सिद्ध योग बन रहे हैं। इन दिनों पूजा, उपासना और किसी कार्य को आरंभ करना काफी शुभ माना जाता है

राशिनुसार देवी के 9 रूप - 12. राशि अनुसार दान -मनोकामनाएं , खुशियों धनधान्य, परिवारक व्यापारिक लाभ हेतु यह उपाय करें।

मेष - चैत्र नवरात्रि 2020 में मेष राशि के व्यक्तियों को - मां शैलपुत्री की पूजा करनी शुभ है।--दान --गुड़ का हलवा

वृष - चैत्र नवरात्रि 2020 पर आप सभी को ब्रह्राचारिणी मां की पूजा वर्ष भर लाभ देगी । दान --सफ़ेद मावा मिष्ठान

मिथुन - चैत्र नवरात्रि 2020 को मां चंद्रघण्टा की उपासना करना व्यापार / नौकरी लाभ देगा। दान - हरी वस्तु

कर्क - चैत्र नवरात्रि 2020 को कूष्मांडा,की पूजा आप सभी को शुभ फलदायी है। दान - दूध चावल ख़ीर

सिंह - चैत्र नवरात्रि 2020 स्कंदमाता की पूजा करना चाहिए।दान - लाल मिस्ठान

कन्या - चैत्र नवरात्रि 2020

कन्या जातक को कात्यायिनी मां की पूजा सभी कस्ट में लाभ कात्यायिनी ! दान - मूंग दाल मिष्ठान

तुला - चैत्र नवरात्रि 2020 मां कालरात्रि, की आराधना धन और सुख हेतु ! दान - श्वेत वस्त्र

वृश्चिक - चैत्र नवरात्रि 2020 महागौरी की पूजा वर्ष भर लाभ की प्राप्ति होगी। दान - लाल मिष्ठान

धनुः - चैत्र नवरात्रि 2020 सिद्धिदात्री की पूजा करनी चाहिए।

दान - बेसन की मिठाई

मकर - चैत्र नवरात्रि 2020 शैलपुत्री‍ मां की पूजा अर्चना घर परिवार ऎश्वर्या की प्राप्ति होगी। दान - तेल के पकोड़े

कुंभ - चैत्र नवरात्रि 2020 ब्रह्मचारिणी की पूजा समस्त फल दायक होगी। दान - चीटियों को बाज़ारी

मीन - चैत्र नवरात्रि 2020

मां चंद्रघंटा की पूजा सौभाग्य दायक होगी। दान - पीली मिठाई

पूजा विधि: नवरात्रि के दिन सुबह स्नान करके माता दुर्गा, भगवान गणेश, नवग्रह कुबेरादि की मूर्ति के साथ-साथ कलश स्थापना करें। कलश सोना, चांदी, तामा, पीतल या मिट्टी का होना चाहिए, ध्यान रखें कि पूजा में इस्तेमाल होने वाला कलश लोहे का न हो। कलश पर रोली से ॐ और स्वास्तिक का चिन्ह बनाएं और उसके स्थापना के वक्त पूजा करने के स्थान पर पूर्व दिशा में 7 तरह के अनाज रखें। माता की आराधना के समय यदि आपको कोई भी मन्त्र नहीं आता हो तो केवल दुर्गा सप्तशती में दिए गए नवार्ण मंत्र ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे मन्त्र का जाप भी कर सकते हैं। हल्दी, अक्षत, पुष्प के साथ ही श्रृंगार का सामान और नारियल-चुन्नी जरुर चढ़ाएं।

- डॉ पंडित गणेश शर्मा। स्वर्ण पदक प्राप्त ज्योतिषाचार्य सीहोर

Posted By: Navodit Saktawat

fantasy cricket
fantasy cricket