Chandra Grahan 8 November 2022: इस बार कार्तिक पूर्णिमा के दिन साल का आखिरी चंद्रग्रहण पड़ने वाला है, जो कि 8 नवंबर 2022 को है। चूंकि इस बार चंद्रग्रहण भारत में भी दिखाई देगा इसलिए इसमें विशेष सावधानियां बरतने को कहा जा रहा है। लेकिन ज्योतिर्विदों के मुताबिक अगर ग्रहण काल में कुछ उपाय किए जाएं तो ग्रहण के दुष्प्रभावों से बचा जा सकता है। इस बार साल का दूसरा और अंतिम चंद्र ग्रहण 08 नवंबर को लगने वाला है। भारत में ये शाम 5 बजकर 32 मिनट से लेकर शाम 7 बजकर 27 मिनट तक दिखाई देगा। इस दौरान करें ये उपाय-

महामृत्युंजय मंत्र

अगर आप चंद्रग्रहण के दुष्प्रभावों से बचना चाहते हैं तो महामृत्युंजय ''मंत्र'ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान्मृ त्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्वः भुवः भूः ॐ सः जूं हौं ॐ'' मंत्र का जाप करें। इस मंत्र के जाप से ग्रहण के कारण स्वास्थ्य में पड़ने वाले बुरे प्रभावों को कम किया जा सकता है।

चंद्र मूल मंत्र का जाप

ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में चंद्र दोष है तो चंद्रग्रहण उनके लिए काफी नुकसानदायक हो सकता है। इसलिए ग्रहणकाल के दौरान चंद्र मूल मंत्र का 108 बार नियमित जाप करें।

इससे मन शांत रहेगा और चंद्र ग्रहण के दुष्प्रभावों से भी बचाव होगा।

हनुमान चालीसा

चंद्र ग्रहण के दुष्प्रभाव से बचने के लिए आप हनुमान चालीसा का पाठ भी कर सकते हैं। यदि चंद्र ग्रहण मंगलवार या शनिवार के दिन पड़ रहा है तो सुंदरकांड का पाठ करना सबसे उत्तम माना जाएगा। ऐसा करने से चंद्र ग्रहण के दुष्प्रभावों से आपकी रक्षा होती है।

दान-पुण्य

चंद्र ग्रहण की अवधि समाप्त होने के बाद दान-पुण्य का अधिक महत्व है। कहा जाता है कि ऐसा करने से शुभफल की प्राप्ति होती है। इसलिए ग्रहणकाल खत्म होने के बाद आप किसी गरीब को भोजन करा सकते हैं या फिर किसी जरुरतमंद को सफेद चीजें दान कर सकते हैं।

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close