गढ़वाल। चार धाम यात्रा अब धीरे-धीरे अपने समापन की ओर अग्रसर हो रही है। इसके साथ ही पहाड़ों पर ठंड की दस्तक भी शुरू हो गई है। तीर्थाटन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं का सिलसिला भी अब कम होने लगा है। शीतकाल के लिए तीन धामों बद्रीनाथ, केदारनाथ और गंगोत्री के कपाट बंद होने की तिथियां घोषित कर दी गई हैं। दशहरे के दिन शुभ मुहूर्त में इन तिथियों की घोषणा की गई।

बद्रीनाथ धाम कपाट 17 नवंबर की शाम 5 बजकर 13 मिनट पर बंद होंगे। इसी के साथ केदारनाथ और गंगोत्री धाम के कपाट बंद करने का शुभ मुहूर्त भी निकाला गया। वहीं यमुनोत्री धाम के कपाट बंद करने का मुहूर्त बुधवार को निकाला जाएगा।

गौरतलब है कि केदारनाथ और यमुनोत्री धाम के कपाट भाई दूज के अवसर पर 29 अक्टूबर और गंगोत्री के कपाट अन्नकूट पर्व पर 28 अक्टूबर को बंद किए जाएंगे। विजयदशमी के अवसर पर पर केदारनाथ धाम के कपाट बंद करने का मुहूर्त भी निकाला गया। इसके अंतर्गत केदारनाथ धाम के कपाट सुबह 8 बजकर 30 मिनट पर बंद होंगे। वहीं, गंगोत्री धाम के कपाट 28 अक्टूबर को सुबह 11 बजकर 40 मिनट पर बंद कर दिए जाएंगे।

मदमहेश्वर और तुंगनाथ के कपाट बंद होने की तिथि भी हुई घोषित

दशहरे के अवसर पर द्वितीय केदार मदमहेश्वर और तृतीय केदार तुंगनाथ के कपाट बंद करने की तिथियां भी घोषित कर दी गईं। ऊखीमठ स्थित ओंकारेश्वर मंदिर में बद्री-केदार मंदिर समिति के पदाधिकारियों की मौजूदगी में पंचांग की गणना के अनुसार तिथियों का एलान किया गया। इसके तहत मदमहेश्वर के कपाट 21 नवंबर को प्रातः सात बजे और तुंगनाथ के कपाट छह नवंबर को सुबह 11 बजकर 30 मिनट पर बंद कर दिए जाएंगे। इस साल बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने चारधाम यात्रा की। पट खुलने के साथ ही तीर्थयात्रियों का सिलसिला शुरू हो गया था।