Chhath Puja Pics: छठ महापर्व के तीसरे दिन शनिवार को डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया गया। समूचे उत्तर भारत, खासतौर पर बिहार और यूपी में पूरी श्रद्धा और उल्लाह के साथ यह त्योहार मनाया गया। राजधानी दिल्ली में भी महिलाओं ने पूजा की और सपरिवार अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा। दिल्ली में प्रदूषण का असर छठ पूजा पर भी पड़ा। कहीं-कहीं महिलाओं ने मुंह पर मास्क पहनकर सूर्य को अर्घ्य दिया।

दिल्ली में हवा की रफ्तार बढ़ने से घटा प्रदूषण, स्थिति फिर भी गंभीर

राजधानी दिल्ली व आसपास के शहरों में शनिवार को हवा की रफ्तार बढ़ने से प्रदूषण में मामूली कमी दर्ज हुई। हालांकि अब भी स्थिति गंभीर बनी हुई है। शुक्रवार को सबसे विकट स्थिति बन गई थी। इस कारण सरकार ने लोक स्वास्थ्य आपातकाल (हेल्थ इमर्जेंसी) घोषित करते हुए स्कूलों में पांच नवंबर तक अवकाश और निर्माण कार्यों पर रोक लगाने की घोषणा की है।

407 पर आया एक्यूआई

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण मंडल के अधिकृत आंकड़ों के अनुसार शुक्रवार शाम 4 बजे राजधानी में ओवरऑल एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) 484 पर था जो कि शनिवार सुबह 10 बजे 407 दर्ज किया गया। एनसीआर रीजन के गाजियाबाद व ग्रेटर नोएडा में यह क्रमशः 459 और 452 रहा। जबकि शुक्रवार शाम 4 बजे यह 496 पर था। इसी तरह पीएम-2.5 धूल के कणों की मात्रा शनिवार सुबह 10 बजे 269 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर रही, जो कि 60 माइक्रोग्राम के सामान्य स्तर की तुलना में चार गुना ज्यादा रही।

हल्की वर्षा से सुधरेगी स्थिति

मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि हवाकी रफ्तार में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। यह धीरे-धीरे बढ़ेगी। रविवार से मंगलवार तक क्षेत्र में 20 से 25 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलेगी। इससे प्रदूषण की स्थिति में सुधार आएगा। चक्रवात 'महा' व नए पश्चिमी विक्षोभ के असर से पंजाब, हरियाणा, राजस्थान व दिल्ली में 7-8 नवंबर को कहीं-कहीं हल्की वर्षा होगी, इससे भी हालत सुधरेगी। बारिश के कारण पराली जलाने का असर कम होगा और उसके कारण हवा में घुल रहे प्रदूषक तत्वों की मात्रा घटेगी।

हेल्थ इमर्जेंसी घोषित की गई

शुक्रवार सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर गठित पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम व नियंत्रण) प्राधिकारी ने राजधानी में हेल्थ इमर्जेंसी घोषित की है। उसके बाद दिल्ली सरकार ने स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया।

Posted By: Arvind Dubey