Dhanteras 2022: हिंदू धर्म का सबसे बड़ा त्योहार दिवाली माना जाता है। इस साल दिवाली का त्योहार 24 अक्टूबर को मनाया जाने वाला है। दिवाली से एक दिन पहले धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है। इसी दिन से दिवाली के पर्व की शुरुआत होती है। इस बार धनतेरस का पर्व 23 अक्टूबर को मनाया जाएगा। धनतेरस के दिन सोना-चांदी, गाड़ी, घर, बर्तन आदि खरीदना बहुत ही शुभ माना जाता है। वहीं इस दिन दान देने का भी विशेष महत्व बताया गया है। वहीं कुछ चीजें ऐसी हैं जिनका दान करने से चौतरफा पैसों की बरसात होती है। आइए जानते हैं कि धनतेरस पर किन चीजों का दान करना काफी शुभ और फलदायी होता है।

अनाज - अनाज का दान करने से व्यक्ति को शुभ फलों का प्राप्ति होती है। हिंदू धर्म में इसका विशेष महत्व बताया गया है। अनाज का दान किसी विशेष दिन करने से इसका महत्व और भी ज्यादा बढ़ जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार धनतेरस के दिन अनाज का दान करने से घर में अन्न भंडार खाली नहीं होते हैं। इस दिन किसी गरीब को भोजन भी करवा सकते हैं। भोजन के बाद दक्षिणा देना काफी शुभ होता है।

लोहा - धनतेरस के दिन लोहे का दान काफी शुभ माना जाता है। इस दिन लोहे का दान करने से जीवन में चल रही समस्याओं से मुक्ति मिलती है। साथ ही रुके हुए काम भी पूरे होते हैं।

झाड़ू - धनतेरस के दिन झाड़ू खरीदना काफी शुभ माना गया है। इस दिन झाड़ू दान भी बहुत शुभ होता है। इस दिन झाड़ू दान करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। इस दिन किसी मंदिर में या किसी गरीब को झाड़ू दान करने से जीवन में कभी भी धन की कमी नहीं होती है।

कपड़े - धनतेरस के दिन कपड़े का दान करना भी अच्छा माना जाता है। ज्योतिष के अनुसार किसी गरीब या जरूरतमंद व्यक्ति को कपड़े दान करने से धन-धान्य की कमी नहीं होती। साथ ही व्यक्ति को कर्ज से भी मुक्ति मिलती है।

Heart Pain Causes: क्यों होने लगता है हार्ट में दर्द, जानिए इसके 6 खास कारण

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Shrma

  • Font Size
  • Close