February 2021 Vrat Tyohar। जनवरी माह जल्दी ही खत्म होने वाला है और फरवरी माह भी कई व्रत त्योहार लेकर जल्द हाजिर होने वाला है। फरवरी माह में कई ऐसा महत्वपूर्ण व्रत और त्योहार हैं, जो विभिन्न धर्म व संप्रदायों द्वारा मनाए जाते हैं। फरवरी माह में मौनी अमावस्या, भौम प्रदोष व्रत, कुंभ संक्रांति, जया एकादशी सहित कई महत्वपूर्ण त्योहार मनाए जाएंगे। आइए जानते हैं फरवरी माह में कौन से प्रमुख व्रत व त्योहार हैं -

07 फरवरी

षटतिला एकादशी- षटतिला एकादशी माघ मास के कृष्‍ण पक्ष की एकादशी तिथि को मनाई जाती है। इस दिन तिल का प्रयोग 6 प्रकार से करने पर पापों का नाश होता है।

09 फरवरी

भौम प्रदोष व्रत- इस व्रत में शिवजी और माता पार्वती की पूजा की जाती है, यह प्रदोष व्रत सोमवार को मनाया जाता है, तब उसे सोम प्रदोष कहा जाता है।

10 फरवरी

मासिक शिवरात्रि - मासिक शिवरात्रि का भी सनातन धर्म में विशेष महत्व है। इस दिन पर व्रत रखकर भगवान शिव की पूजा की जाती है।

11 फरवरी

मौनी अमावस्या माघ माह में मनाई जाती है। इस अमावस्या को माघ अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है। ऐसी धार्मिक मान्यता है कि इसी दिन पवित्र संगम में देवताओं का निवास होता है इसलिए इस दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व है।

12 फरवरी

माघ गुप्त नवरात्रि का शुभारंभ 12 फरवरी को होगा। सनातन पंचांग के अनुसार कुंभ संक्रांति 11वें महीने की शुरुआत है। कुंभ संक्रांति हिंदुओं के लिए बहुत ही खास दिन होता है। इस दिन देवताओं का पवित्र नदियों गंगा, यमुना, सरस्वती, गोदावरी, शिप्रा इत्यादि में वास होता है।

15 फरवरी

गणेश जयंती, विनायक चतुर्थी 15 फरवरी को है। इस दिन श्री गणेश का पूजन किया जाता है। भगवान गणेश की कृपा प्राप्त करने के लिए यह तिथि काफी खास है। इस दिन सुबह उठकर स्नान करके पूरे विधि विधान से भगवान गणेश का पूजन करना चाहिए।

16 फरवरी

वसंत पंचमी एक प्रमुख हिंदू त्योहार है। इस दिन सरस्वती की पूजा की जाती है। यह पूजा पूर्वी भारत, पश्चिमोत्तर बांग्लादेश, नेपाल आदि में उत्साह के साथ मनाई जाती है। इस दिन विशेषकर पीले वस्त्र धारण करते हैं।

19 फरवरी

अचला सप्तमी, शिवाजी जयंती माघ माह की शुक्ल पक्ष की सप्तमी को मनाई जाती है। इसे सूर्य सप्तमी, अचला सप्तमी, रथ आरोग्य सप्तमी आदि नामों से भी जानी जाती है।

20 फरवरी

भीष्म अष्टमी का पर्व महाभारत के महान पात्र भीष्म पितामह की याद में मनाया जाता है। इस दिन भीष्म अष्टमी का व्रत रखते हैं।

21 फरवरी

माघ गुप्त नवरात्रि समापन 21 फरवरी को होगा। माघ और आषाढ़ मास में पड़ने वाले नवरात्र गुप्त माने जाते हैं। तांत्रिक साधना के लिए इन 9 दिनों को काफी खास माना जाता है।

23 फरवरी

माघ मास की शुक्लपक्ष एकादशी को जया एकादशी कहा गया है। जया एकादशी के पुण्य के कारण मनुष्य सभी पापों से मुक्त होकर जीवन के हरेक क्षेत्र में विजयश्री प्राप्त करता है और मोक्ष का अधिकारी हो जाता है।

24 फरवरी

प्रदोष व्रत करने से भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है। प्रदोष व्रत को करने से हर प्रकार का दोष मिट जाता है। सप्ताह के 7 दिन के प्रदोष व्रत का अपना विशेष महत्व है।

27 फरवरी

इस दिन माघ पूर्णिमा, गुरु रविदास जयंती है। इस दिन चंद्रमा की पूजा का विशेष महत्व होता है। पूर्णिमा के दिन दान, पुण्य शुभ फलकारी माना जाता है।

Posted By: Sandeep Chourey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags