मल्टीमीडिया डेस्क। साल 2019 का पहला सूर्य ग्रहण 6 जनवरी दिन रविवार को पड़ेगा। यह आंशिक सूर्य ग्रहण है, जो अमेरिका के अलास्का, पूर्वी रूस, मंगोलिया, चीन, जापान, कोरिया, आदि कुछ देशों में दिखेगा, लेकिन भारत में दिखाई नहीं देगा। लिहाजा, भारत में सूतक नहीं लगेगा जिससे पूजा-पाठ करने में कोई परेशानी नहीं होगी।

वैश्विक समय के मुताबिक, सूर्यग्रहण 23:34:08 बजे से लग जाएगा, लेकिन भारतीय समयानुसार, यह सुबर 5.09 बजे से शुरू हो जाएगा। भारत में इसके दिखाई नहीं पड़ने की वजह से देश में इसका असर कम ही दिखेगा। यह ग्रहण धनु राशि पर लगेगा। शनि इस समय धनु में ही गोचर कर रहे हैं। ग्रहण के समय पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र रहेगा।

महंत रोहित शास्त्री ने बताया कि यह सूर्यग्रहण भारतीय समयानुसार 5 जनवरी शनिवार 2019 की रात्रि के बाद 6 जनवरी 2019 रविवार की सुबह को लगने वाला खण्डग्रास सूर्यग्रहण सुबह 5.04 बजे से इसी सुबह 9.18 बजे के मध्य भूगोल पर दिखाई देगा। यह खण्डग्रास सूर्य ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा, ध्यान रहे, भारत में यह ग्रहण दिखाई ना देने के कारण इसका सूतक स्नान, माहात्म्य का विचार नहीं होगा।

साल 2019 में कुल 5 ग्रहण होंगे

साल 2019 में कुल 5 ग्रहण होंगे, जिसमें से 3 सूर्यग्रहण और 2 चंद्रग्रहण होंगे। इस साल का दूसरा सूर्यग्रहण 2 जुलाई 2019 को लगेगा। भारतीय समय के अनुसार ये रात में लगेगा, लिहाजा उस समय सूर्य ग्रहण को देखा नहीं जा सकेगा। इसके साथ ही तीसरा सूर्य ग्रहण साल के आखिरी महीने में 26 दिसंबर 2019 को लगेगा, जिसे दक्षिण भारत के इलाकों से देखा जा सकेगा।

16-17 जुलाई को खग्रास में चंद्रग्रहण होगा। इस साल 21 जनवरी को साल का पहला चंद्रग्रहण होगा। ये भी भारत में दिखाई नहीं देगा। वहीं, 16 जुलाई 2019 को खंडग्रास चंद्रग्रहण होगा, जो भारत में दिखाई देगा।

क्या करें और क्या नहीं करें

कहते हैं कि सूर्य ग्रहण के बाद स्नान और दान करना अच्छा रहता है। इसलिए गेहूं, धान, चना, मसूर दाल, गुड़, अरवा चावल, सफेद-गुलाबी वस्त्र, चूड़ा, चीनी, खीर दान करने से खास लाभ मिलेगा।

ग्रहण के दौरान सिर पर तेल लगाना, खाना खाना और बनाना, वर्जित होता है। ग्रहण के दौरान वायुमंडल में बैक्टीरिया और संक्रमण का प्रकोप तेजी से बढ़ जाता है। ऐसे में भोजन करने से संक्रमण अधिक होने की आशंका रहती है। इसलिए ग्रहण के दौरान भोजन खाने से बचना चाहिए।

ग्रहण के समय पति और पत्नी को शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए। इस दौरान यदि गर्भ ठहरने पर होने वाली संतान अपंग या मानसिक रूप से विक्षिप्त हो सकती है।

Posted By: