Hanuman Jayanti 2020: सनातन संस्कृति में पवनसुत हनुमनजी को सहज, सरल और मनोकामनाओं की पूर्ति करने वाला देवता माना जाता है। मान्यता है कि हनुमानजी थोड़ी सी उपासना से प्रसन्न हो जाते हैं और भक्त को मनचाहा आशीर्वाद देते हैं। बजरंगबली को रुद्रावतार माना जाता है और देवताओं ने उनको शक्ति प्रदान की थी। भक्त हनुमानजी की आराधना कर उनके भक्ति और शक्ति दोनों प्राप्त करते हैं। पवनसुत ककी आराधना से भक्तों के कष्टों का नाश होता है और सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है।

मंगलवार को हनुमान उपासना से मिलते हैं यह लाभ

श्रीराम भक्त हनुमान की आराधना भक्त विघ्नों के विनाश और कामनाओं को पूर्ण करने के लिए करते हैं। मंगलवार और शनिवार हननुमानजी के अति प्रिय दिन है इसलिए इन दो दिनों में बजरंगबली की आराधना करने का विशेष महत्व है।

- मंगलवार को हनुमानजी का सिंदूर से पूजन करने पर सभी तकलिफों का अंत होता है।

- मंगलवार के दिन वटवृक्ष के एक पत्ते को तोड़कर उसको गंगाजल से धोने के बाद बजरंगबबली को समर्पित करने से आर्थिक समस्या का समाधान होता है।

- मंगलवार के दिन हनुमानजी को पान का बीड़ा चढ़ाने से रोजगार के अवसर मिलते हैं और नौकरी में प्रमोशन के योग बनते हैं।

- मंगलवार को संध्या के समय लाल वस्त्र धारण कर केवड़े या गुलाब का इत्र हनुमानजी को समर्पित कर लाल गुलाब की माला पहनाने से हनुमानजी की कृपा प्राप्त होती है।

- मंगलवार की शाम को व्रत का संकल्प लेकर हनुमानजी को बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद को बांट दे। इससे संतान संबंधी समस्या का समाधान होता है।

- मंगलवार के दिन श्रीराम नाम का 108 बार पाठ करने से हनुमानजी के साथ श्रीराम की भी कृपा प्राप्त होती है। इस उपाय से विवाह संबंधी बाधा दूर होती है।

- मंगलवार के दिन हनुमान मंदिर में बैठकर श्रद्धापूर्वक श्रीरामरक्षास्त्रोत का पाठ करने से बाधाओं का निवारण होता है और कर्ज से मुक्ति मिलती है।

- मंगलवार के दिन हनुमानजी की प्रतिमा के सामने सरसों के तेल का दीपक लगाकर हनुमान चालीसा का पाठ करने से दांपत्य जीवन से जुड़ी दिक्कतें दूर होती है।

सर्वसिद्धि के लिए करें यह उपाय

हनुमानजी की कृपा प्राप्त करने के लिए रोजाना या रोजाना संभव नहीं हो तो मंगलवार और शनिवार को घर पर हनुमानजी के चित्र के सामने या हनुमान मंदिर में जाकर हनुमान आराधना करना चाहिए। सुबह जागने के बाद और रात्रि में सोने से पहले हनुमान चालीसा या हनुमान मंत्र का जाप करे | दिन में एक बार हनुमान चालीसा का पाठ अवश्य करें। तामसिक आहार, मांस, मदिरा आदि का पूरी तरह से त्याग करें।

हनुमानजी के साथ श्रीराम और सीता की भी पूजा करना चाहिए। मंगलवार और शनिवार का व्रत रखना विशेष फलदायी होता है। मंगलवार या शनिवार को हनुमान मंदिर में बजरंगबली की प्रतिमा को सिंदूर चढ़ाने के बाद जनेऊ धारण करवाएं। उनको गुड़-चना का भोग लगाएं। इसके साथ ही बंदरों को चने या दूसरी खाद्य सामग्री खिलाएं।

घर में हनुमानजी की दक्षिणामुखी प्रतिमा को लगाएं। इससे घर के दोष दूर होते हैं। घर में श्रीराम दरबार की हनुमानजी का चित्र या प्रतिमा लगाना शुभ माना जाता है। इसके अलावा ध्यानमुद्रा वाले हनुमानजी या श्रीराम-लक्ष्मण को कंधे पर लेकर उड़ते हुए बजरंगबली का फोटो भी लगाना शुभ माना जाता है।लेकिन हनुमानजी का चित्र या प्रतिमा बेडरुम में न लगाए।

हनुमानजी को पूर्णिमा के दिन चोला चढ़ाने से या लाल फूल अर्पित करने समस्त बाधाओं का नाश होता है। चोला सिंदूर में चमेली का तेल मिलाकर चढ़ाना चाहिए। इसके बाद सोने या चांदी का वर्क लगाना चाहिए। हनुमानजी को प्रसाद में नारियल या उसका गोला, बूंदी के लड्डू, गुड़-चना ादि का भोगग लगाना चाहिए। लाल फूल बजरंगबली को अति प्रिय है इसलिए लाल फूल समर्पित करना चाहिए। हनुमानजी की स्तुति कुछ खास स्तुतियों से करने से सभी मनोकामना पूर्ण होती है। इसमें सुदरकांड, हनुमान चालीसा, हनुमान अष्टक, बजरंग बाण, श्रीरामरक्षास्त्रोत का पाठ करना चाहिए।

Posted By: Yogendra Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan