Hariyali Teej 2022। हिंदू धर्म में हरियाली तीज पर्व का विशेष महत्व है। हरियाली तीज श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को कहते हैं। आमतौर पर हरियाली तीज हर साल अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक जुलाई या अगस्त माह में मनाई जाती है। Hariyali Teej विशेषकर महिलाओं का पर्व है। सावन माह में जब पूरे भारत देश में हरियाली की चादर बिछी रहती है, प्रकृति के इस मनोरम क्षण का आनंद लेने के लिए महिलाएं झूले झूलती हैं, लोक गीत गाकर उत्सव मनाती हैं। हरियाली तीज के अवसर पूरे भारत देश में अधिकांश स्थान पर मेले लगते हैं और माता पार्वती की सवारी धूमधाम से निकाली जाती है। धार्मिक मान्यता है कि सुहागन स्त्रियों के लिए हरियाली तीज पर्व बहुत मायने रखता है क्योंकि सौंदर्य और प्रेम का यह उत्सव भगवान शिव और माता पार्वती के पुनर्मिलन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

हरियाली तीज का मुहूर्त

हरियाली तीज की तिथि 31 जुलाई, 2022 को 03:01:48 से आरंभ होगी। और 1 अगस्त, 2022 को 04:20:06 पर तृतीया तिथि समाप्त होगी।

इसलिए रखा जाता है हरियाली तीज व्रत

सावन माह में हर तरफ हरियाली होती है. इसलिए इसे हरियाली तीज कहते हैं। इस साल सावन माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि यानी 31 जुलाई 2022 रविवार को हरियाली तीज है। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार इसी दिन माता पार्वती ने घोर तपस्या करके भगवान शिव को अपने वर के रूप में प्राप्त किया था, इसलिए इस दिन को विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र और सुखी दांपत्य जीवन के लिए निर्जला व्रत रखकर भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करती हैं।

हरियाली तीज पर बनेगा शुभ मुहूर्त

हरियाली तीज व्रत पर इस साल वरियान और रवि योग जैसे शुभ योग बन रहे हैं। ज्योतिष के मुताबिक रवि योग 1 अगस्त 2022 को सुबह 2:20 से 6.04 बजे तक रहेगा। इसके अलावा अभिजीत मुहूर्त हरियाली तीज पर दोपहर 12:9 बजे से 1:01 बजे तक रहेगा।

हरियाली तीज पूजा विधि

- हरियाली तीज के दिन महिलाओं को ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करना चाहिए।

- उसके बाद भगवान शिव और माता पार्वती का ध्यान करते हुए व्रत का संकल्प लेना चाहिए।

- इन दिन बालू रेत से बनाए हुए भगवान शंकर व माता पार्वती की मूर्ति का पूजन किया जाता है।

- शुद्ध मिट्टी में गंगाजल मिलाकर शिवलिंग, रिद्धि-सिद्धि सहित गणेश, पार्वती व उनकी सहेली की प्रतिमा बनाई जाती है।

- विधि विधान के साथ पूजा संपन्न करने के बाद आरती करना चाहिए।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close