Ashram In Vrindavan: भारत में कृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। जन्माष्टमी के बाद से ही त्योहारों की शुरुआत होने लगती है। जन्माष्टमी के त्योहार को बड़े ही उत्साह और भव्यता के साथ मनाया जाता है। लेकिन कृष्ण भूमि के रूप में प्रसिद्ध मथुरा और वृंदावन में लोग जन्माष्टमी को बड़े जोरों-शोरों के साथ मनाते हैं। अगर आप भी इस खास मौके पर वृंदावन जाने का प्लान बना रहे हैं। साथ ही यहां एक से दो दिन रुक कर यहां इस त्योहार का मजा लेना चाहते हैं। पर आप भी ठहरने की व्यवस्था को लेकर चिंतित हैं तो आज हम आपकी इस चिंता का समाधान लेकर आएं हैं। हम आपको वृंदावन के उन आश्रमों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां आप एकदम फ्री में ठहर सकते हैं।

बालाजी आश्रम

हम जब भी किसी जगह घूमने जाते हैं तो सबसे पहले ठहरने की व्यवस्था देखते हैं। वहीं हमें इस बात की चिंता भी रहती है कि होटल ज्यादा महंगा हुआ तो हम क्या करेंगे। लेकिन वृंदावन के इस आश्रम में आपको एक भी रुपया खर्च नहीं करना पड़ेगा। वृंदावन का ये बालाजी आश्रम प्राचीन और काफी लोकप्रिय है। लोग इस आश्रम में फ्री में योग, मेडिटेशन और डिटॉक्स जैसे प्रोग्राम में शामिल होने के लिए आते हैं। अगर आप इस आश्रम में ठहरना चाहते हैं तो आपको एक वालंटियर के रूप में यहां काम करना होगा। लेकिन इस आश्रम में आपको खाना खाने के लिए पैसे जरुर देने पड़ेंगे।

temples in vrindavan, वृन्दावन में बांके बिहारी मंदिर घूमने के साथ-साथ इन  मंदिरों में भी दर्शन करने के लिए जरूर निकालें समय - famous temples in  vrindavan in hindi ...

गोविंद धाम आश्रम

वृंदावन में आध्यात्मिकता के साथ ही एक शांत जगह भी है। अगर आप भी एक से दो दिन के लिए कोई शांत जगह ढूंढ रहे हैं तो आप श्री गोविंद धाम आश्रम में जा सकते हैं। इस आश्रम में सबसे ज्यादा वृद्ध महिलाओं को ठहरने की सुविधाएं हैं। वहीं अगर आपको इस आश्रम में ठहरना है तो वालंटियर वाला काम करना पड़ेगा जैसे गार्डनिंग, साफ-सफाई आदि।

Ashram In Vrindavan| वृन्दावन में रहने के लिए आश्रम| Vrindavan Ashram For  Ladies In Hindi-वृन्दावन के इन आश्रमों में रुकने की है फ्री व्यवस्था, आप भी  पहुंचें

माता रितांबरी आश्रम

वृंदावन में ठहरने के लिए माता रीतांबरी आश्रम एकदम परफेक्ट है। इस आश्रम में रहने के साथ-साथ आप यहां भजन जैसे कार्यक्रम में भी हिस्सा ले सकते हैं। इस आश्रम में अन्य कई धार्मिक कार्य भी होते रहते हैं। यहां लोगों की अच्छी खासी भीड़ भी देखने को मिलती है। बताया जाता है कि इस आश्रम में कई बार लंगर का भी आयोजन किया जाता है।

Janamashtami in Vrindavan: जनमाष्टमी पर अगर वृंदावन घूमने का मन है तो इन  आश्रमों में मिलेगा फ्री रहना-खाना

वृंदावन में घूमने की जगह

वहीं वृंदावन में घूमने के लिए आप निकल रहे हैं तो बांके बिहारी मंदिर जाएं। इस मंदिर में भगवान कृष्ण बाल रूप में स्थापित हैं। इसके बाद आप प्रेम मंदिर जाएं। यह मंदिर बड़ा ही खूबसूरत दिखाई देता है। जो कि हर किसी को अपनी ओर खींच लेता है। इसके बाद निधिवन, राधा रमन मंदिर, इस्कॉन मंदिर, गोविंद देव जी मंदिर, श्री रंगजी मंदिर जैसी जगहों पर भी जा सकते हैं।

Prem Mandir Vrindavan What Is The History Of Prem Mandir, Mathura UP | Prem  Mandir Vrindavan: वृंदावन में प्रेम मंदिर कब और किसने बनवाया? जानिए इस  विश्व प्रसिद्ध मंदिर की मान्यता और

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close